अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगाई के खिलाफ बंद का बाजार पर दिखा असर

हाथों में झंडा लगे डंडा व तख्तियां और बैनर लिए सड़क पर उतरे लोग

आगजनी कर प्रदर्शन करते दिखे लोग, साइकिल तक को नहीं होने दिया पार

दंडाधिकारी के साथ प्रतिनियुक्त किए गए थे जिला पुलिस व सैप जवान

10 बजे कांग्रेस व राजद समर्थक उतरे सड़क पर

11 बजे वाम दल कार्यकर्ताओं का निकला जत्थ

भभुआ। कार्यालय संवाददाता

पेट्रोलियम पदार्थ व इंधन गैस की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी के खिलाफ कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों की ओर से बुलाए गए भारत बंद का भभुआ शहर में व्यापक असर देखा गया। हालांकि प्रशासन की ओर से यह घोषणा की गई थी कि बंद के दौरान लोगों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी और कानून को हाथ में लेनेवालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। सुरक्षा व विधि-व्यवस्था के मद्देनजर शहर के एकता चौक, पटेल चौक, जेपी चौक पर दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी के साथ जिला पुलिस व सैप जवानों की तैनाती की गई थी।

कैमूर में कांग्रेस, राजद, वाम दल, सपा, हम, लोजद कार्यकर्ता हाथों में झंडा लगे डंडा, बैनर व तख्ती के लिए सोमवार को सड़क पर उतर आए। जगह-जगह आगजनी कर विरोध प्रदर्शन किया। रोड जाम कर साइकिलवाले तक को पार करने नहीं दिया। इससे यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ी। संयोग अच्छा था कि इस दौरान किसी मरीज का वाहन चौराहा से नहीं गुजरा। बंद को देखते हुए कुछ स्कूल प्रबंधकों ने विद्यालयों को पहले से ही बंद कर दिया था। पूर्व के बंद के दौरान हुई तोड़फोड़ को देखते हुए व्यवसायियों ने स्वत: दुकानें बंद कर दी थी।

आए दिन सड़कों पर सब्जियों, फल व नाश्ते के लगनेवाले ठेले बंद के दौरान किनारे लगे थे। ग्रामीण इलाकों में रोज जाम किए जाने से यात्री बसें समय से शहर में नहीं पहुंच सकी। इसलिए बाजार में इक्का-दुक्का लोग दिख रहे थे। दफ्तरों में भी फरियाद लेकर पहुंचनेवालों की संख्या कम ही रही। शहर में रोड जाम किए जाने के कारण लोगों को रास्ता बदलकर गंतव्य स्थानों तक जाना पड़ा। जिला प्रशासन के वाहन तक को बंद समर्थकों ने रोक दिया।

भ्रमण कर शहर को कराया बंद

विपक्षी दलों ने शहर में भ्रमण कर बाजार को बंद कराया। हालांकि पूर्व के बंद के दौरान हुई तोड़फोड़ की घटना को देखते हुए एकता चौक, समाहरणालय पथ, पटेल चौक, जेपी चौक, कचहरी पथ, सीवों पथ, सब्जी मंडी आदि की अधिकांश दुकानें बंद थीं। जो खुली दिखीं उसे आंदोलनकारियों ने बंद करा दिया। हालांकि दोपहर बाद दुकानें खोली जाने लगीं।

एकता चौक पर की आगजनी

कांग्रेस कार्यकर्ता शहीद भवन से दिन में 10 बजे चले और एकता चौक पर पहुंचकर रोड जाम कर दिए। राजद कार्यकर्ता भी केंद्र व राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए एकता चौक पर पहुंचकर रोड जाम में शामिल हो गए। वे यह सरकार निकम्मी है-इसे बदलनी है, महंगाई पर रोक लगाओ जैसे नारे लगा रहे थे। कुछ देर बाद टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन करने लगे। पूरब में सीवों पथ व उत्तर में समाहरणालय पथ के रास्ते को बंद समर्थक रोककर रखे हुए थे।

समाहरणालय पथ में हुए एक साथ

एकता चौक से राजद व कांग्रेस कार्यकर्ता समाहरणालय पथ की ओर बढ़े। बेलवतिया के पास से भाकपा माले, सीपीआई व सीपीएम के कार्यकर्ताओं का जत्था झंडा-बैनर के साथ निकला। बंद के दौरान सपा, हम, लोजद कार्यकर्ता भी थे। उक्त सभी विपक्षी दल डायमंड होटल के पास एक साथ हो गए। यहां से वे राजेंद्र सरोवर की ओर बढ़ गए। फिर सब्जी मंडी, पूरब पोखरा, पटेल चौक तक गए। पुन: एकता चौक पर आकर रोड जाम कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bhabhua news