DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सब्सिडी के लाभ से वंचित होंगे डंठल जलाने वाले किसान

जिलाधिकारी ने धान अधिप्राप्ति की समीक्षा बैठक में डीएओ को दिया निर्देश

कहा, पैक्स अधक्ष 15 जून तक एसएफसी गोदाम में जमा करें शेष सीएमआर

भभुआ। हिन्दुस्तान संवाददाता

फसल की कटनी के बाद खेतों में डंठल जलाने वाले किसान कृषि कार्य के लिए मिलने वाली सब्सिडी के लाभ से वंचित हो सकते हैं। डीएम डॉ. नवल किशोर चौधरी ने बुधवार को कलेक्ट्रेट में आयोजित धान अधिप्राप्ति टास्क फोर्स की बैठक में कहा कि खेत में डंठल जलाने से प्रदूषण उत्पन्न होता है, जो कई तरह का नुकसान पहुंचाता है। खेत की उर्वरा शक्ति का हा्रस होगा। उन्होंने नहरों के किनारे व खेतों के मेढ़ पर फलदार पौधे लगाने की बात भी कही। किसानों को वन विभाग व मनरेगा योजना से फलदार एवं छायादार पौधे मुहैया कराई जाएगी।

धान अधिप्राप्ति की समीक्षा के दौरान डीएम ने पैक्स अध्यक्षों को शेष सीएमआर (चावल) अगामी 15 जून तक हरहाल में एसएफसी गोदाम में जमा करने का निर्देश दिया। सीएमआर नहीं जमा करने वाले संबंधित पैक्सों की साप्ताहिक समीक्षा करने की जिम्मेवारी जिला सहकारिता पदाधिकारी वसारुक जमा को दी। डीएम ने एसएफसी के जिला प्रबंधक को गोदाम में क्षमता से अधिक सीएमआर नहीं रखने एवं सभी पैक्स अध्यक्षों के साथ समन्वय स्थापित कर उन्हें गोदाम के बारे में जानकारी देने को कहा।

बैठक में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद करने की भी चर्चा की गई। डीसीओ ने डीएम को बताया कि विभाग ने इस साल कैमूर को 12 हजार टन गेहूं समर्थन मूल्य पर खरीद करने का लक्ष्य दिया है। सरकार ने किसानों से मोबाइल एप के माध्यम से गेहूं की खरीद व्यापार मंडल से करने की बात कही है। किसानों को गेहूं व्यापार मंडल में लाना होगा। बैठक में जिला आपूर्ति पदाधिकारी पीके झा, एसडीओ अनुपमा सिंह के अलावा कई अधिकारी थे।

फोटो- 30 मई भभुआ-4

कैप्शन- कलेक्ट्रेट स्थित अपने कार्यालय सभा कक्ष में अफसरों के साथ धान अधिप्राप्ति टॉस्क फोर्स की बैठक करते डीएम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bhabhua news