DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पति को उम्रकैद व सास-ससुर को दस साल की कैद

दहेज में सोने की चेन व बाइक के लिए जहर देकर हत्या करने का था आरोप

कोर्ट द्वारा लगाए गए जुर्माना की राशि नहीं जमा करने पर होगी अतिरिक्त सजा

20 हजार रुपए हर दोषी पर लगाया गया है जुर्माना

भभुआ। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि

एडीजे प्रथम रामरंग तिवारी की अदालत ने बुधवार को बहू की हत्या करने के मामले में पति, सास व ससुर को दोषी माना और उन्हें सजा सुनाई। कुदरा थाना क्षेत्र के भटवलिया गांव निवासी पति धनंजय यादव को उम्रकैद तथा ससुर अंबिका यादव व सास उमरावती देवी को दस-दस साल कैद की सजा सुनाई गई। सभी तीनों सजायफ्ता पर 20-20 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना की राशि जमा नहीं करने पर छह-छह माह अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतने की बात आदेश में कही गई है।

दहेज में सोने की चेन व बाइक नहीं देने पर बहू की हत्या करने के मामले में भभुआ थाना क्षेत्र के सेमरिया निवासी अवधेश यादव ने कुदरा थाने में आरोपितों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें कहा गया है कि वर्ष 2009 में उनकी बेटी मुन्नी की शादी भटवलिया के धनंजय यादव के साथ हुई थी। शादी के तीन साल बाद द्विरामगन हुआ। उसके बाद से ही ससुराल वाले दहेज में उक्त चीजों की मांग करने लगे। नहीं देने पर उसे प्रताड़ित करते थे। मारपीट भी करते थे।

एफआईआर में लिखा गया है कि 24 अक्टूबर 2014 को उसे सूचना मिली कि ससुराल वालों ने उसकी पुत्री को जहर दे दिया है। इलाज के लिए उसे भभुआ की सब्जी मंडी स्थित निजी क्लीनिक में ले जाया गया है। जब वह वहां पहुंचा तो पता चला कि उसकी बेटी की मौत हो गई है। वह मृत बेटी का शव देखने भटवलिया गांव के किनारे दुर्गावती नदी के पास पहुंचा, जहां शव का दाह-संस्कार करने की तैयारी चल रही थी।

उसके द्वारा शव जलाने से रोका गया। लेकिन, ससुरालवाले नहीं माने और जबरदस्ती शव को जलाने लगे। सूचना पर पहुंची कुदरा पुलिस ने अधजले शव को बरामद किया था। पुलिस के आने के पहले ही ससुराल वाले वहां से भाग गए थे। इसी मामले में दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद अदालत ने उक्त सजा सुनाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bhabhua news