DA Image
29 मार्च, 2020|2:21|IST

अगली स्टोरी

रक्सौल रेलखंड पर हुआ ट्रायल

नरकटियागंज से सीतामढ़ी के बीच रविवार को स्पेशल ट्रायल ट्रेन का परिचालन किया गया। रक्सौल रेलखंड पर ट्रेनों की गति बढ़ाने को लेकर उक्त ट्रायल ट्रेन की रवानगी की गई। स्टेशन अधीक्षक लालबाबू राउत ने बताया कि रक्सौल रेलखंड पर पूर्व में 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से परिचालन होता था। लेकिन, अब 100 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेनें परिचालित की जाएंगी। उन्होंने बताया कि स्पेशल ट्रेन की रवानगी 10:10 बजे की गयी। उक्त स्पेशल ट्रेन को डेढ़ घंटे में बैरगनिया पहुंचना है। उन्होंने बताया कि ट्रायल के बाद सभी ट्रेनों को सौ किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलाई जाएगी। इस अवसर पर एईएन  समस्तीपुर डीईएन टू सुमन भारती, एईएन अखिलेश मिश्रा, पीडब्लूआई सुरेन्द्र प्रसाद, लोको पायलट मो. राकिब, सहायक पायलट  एस के सुमन, एलआई  उमेश कुमार, डिप्टी एसएस आर के दास, कमलापति तिवारी      आदि अधिकारी थे। 
55072 पैसेंजर ट्रेन का 15216 से नहीं हुआ मेल 
रेल यात्रियों की सुविधा के लिए रेल प्रशासन ने गोरखपुर से नरकटियागंज आने वाली 55072 पैसेंजर ट्रेन की नरकटियागंज से मुजफ्फरपुर जाने वाली 15216 ट्रेन से मेल कराने की व्यवस्था की है। लेकिन यह विडम्बना ही है कि महीने में शायद एक दो बार ही रेल यात्रियों को यह सुविधा मिल पाती है। इससे रेल यात्री भारी परेशानी के शिकार हो रहे हैं। पैसेंजर ट्रेन में सवार अलगू राय,नवलकिशोर सिंह,राजकुमार राय,रीता देवी समेत कई यात्रियों ने बताया कि  टिकट लेने से बचने के चक्कर में उनलोगों ने आगे तक का टिकट लिया है।  लेकिन अब उन्हें बस से कुमारबाग की यात्रा करनी पड़ेगी और इसके लिए अलग से पैसे देने पड़ेंगे। इस बावत स्थानीय रेल अधिकारियों का कहना है कि रेलखंड में कई जगहों पर स्लीपरों के बदलने के कारण यह परेशानी हो रही है। शीघ्र ही इसे पूरा करते हुए समय से ट्रेनों के परिचालन की सुविधा बहाल की जाएगी। 
ट्रेनों की लेटलतीफी से यात्रियों को परेशानी
गोरखपुर-नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर रेलखंड पर रविवार को ट्रेनों के विलंब परिचालन व एक्सप्रेस ट्रेनों को छोटे स्टेशनों पर भी रोकने को लेकर रेल यात्रियों में गहरी नाराजगी दिखी। देहरादून से मुजफ्फरपुर जाने वाली राप्तिगंगा एक्सप्रेस रविवार को करीब चार घंटे की देरी से नरकटियागंज पहुंची। इसमें सवार रेलयात्रियों का कहना था कि गोरखपुर से आने के क्रम में इस ट्रेन को कई ऐसे स्टेशनों पर रोका गया,जहां इसका ठहराव नहीं होता है। इससे उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। चकिया के गुलाब प्रसाद समेत राजेश सिंह,केश्वर प्रसाद, मोजम्मिल अंसारी आदि ने कहा कि गोरखपुर तक लगभग समय से आने वाली इस ट्रेन को नरकटियागंज पहुंचने में चार घंटे की देरी हो गयी। इसी प्रकार डाउन सत्याग्रह एक्सप्रेस भी करीब ढाई घंटे की देरी से यहां जंक्शन पर पहुंची। इस रेलखंड की सर्वाधिक महत्वपूर्ण अप सप्तक्रांति समेत अवध एक्सप्रेस का परिचालन भी क्रमश: पौने तीन घंटे व दो घंटे की देरी से हुई।