DA Image
21 अप्रैल, 2021|1:03|IST

अगली स्टोरी

बछवाड़ा जंक्शन होकर एक साथ गुजरेंगी तीन दिशाओं की ट्रेनें

default image

बछवाड़ा। निज संवाददाता

पूर्व मध्य रेलवे के सोनपुर मंडल अंतर्गत बछवाड़ा जंक्शन के रेलवे यार्ड का रिमॉडलिंग कार्य पूरा हो चुका है। इस रेलवे स्टेशन की संरक्षा व परिचालन क्षमता बढ़ गई है। अब इस स्टेशन पर तीन दिशाओं से आने वाली ट्रेनों का एक साथ परिचालन करवाने में सहूलियत होगी।

बरौनी, समस्तीपुर व हाजीपुर ( वाया शाहपुर पटोरी) तीन लाइनों को जोड़ने वाला यह रेलवे स्टेशन महत्वपूर्ण जंक्शन बन चुका है। उल्लेखनीय है कि बछवाड़ा जंक्शन के यार्ड में लाइनों व प्वाइंट्स पर नन-इंटरलॉक्ड काम करने व बड़े पैमाने पर काम के कारण हो रही बाधा के बावजूद इस रेल डिवीजन द्वारा माल ढुलाई के आवागमन को बनाए रखा गया। रेल मंडल ने 28 फरवरी को माह में सबसे अधिक 197 मालगाड़ियों का इंटरचेंज करते हुए एक मार्च, 2021 को 207 मालगाड़ियों के रिकार्ड दूसरा उच्चतम इंटरचेंज का रिकार्ड बनाया। रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि बछवाड़ा जंक्शन से होकर तीन दिशाओं में राजधानी एक्सप्रेस समेत कई दूरगामी एक्सप्रेस ट्रेनें गुजरती हैं। पहले इन मार्गों के दोहरीकरण व विद्युतीकरण के बावजूद यह जंक्शन नियमित रूप से ट्रेनों के परिचालन में एक बाधा साबित हो रहा था। पुराने यार्ड में एक छोर पर ट्रेनों के प्राप्त करने और समय पर चलाने के दौरान दूसरे छोर से ट्रेनों को प्राप्त करना और चलाना संभव नहीं था। इससे कि गाड़ियों के परिचालन में बाधा आती थी। इस रूट से गुजरने वाली ट्रेनों की लेटलतीफी के साथ-साथ ट्रैक जाम हो जाने की समस्या बनी रहती थी। ट्रेनों के नियमित व सुरक्षित परिचालन के लिए यार्ड की रिमॉडलिंग बेहद जरूरी थी।

यार्ड की रिमॉडलिंग में सिविल इंजीनियरिंग, सिग्नलिंग एवं दूरसंचार व इलेक्ट्रिकल कार्य शामिल थे। इसमें 7 कट और कनेक्शन, 33 प्वाइंट्स की स्थापना, 73 रूट्स, 3 नई लाइनों का निर्माण, 5 लाइनों की रीएलाइन्मेंट और उनके विद्युतीकरण की आवश्यकता थी जो कि रिकार्ड समय मे पूरा कर लिया गया। पूरे यार्ड ऑपरेशन को नियंत्रित करने के लिए डिस्ट्रिब्यूटेड आर्किटेक्चर के आधुनिकतम इलेक्ट्रॉनिक इन्टरलॉकिंग सिस्टम व ड्यूल वीडीयू (विजुअल डिस्प्ले यूनिट) लगाई गई है।

930 करोड़ लागत की है रिमॉडलिंग परियोजना

बछवाड़ा यार्ड रिमॉडलिंग कार्य रुपये 930 करोड़ की लागत वाली हाजीपुर-शाहपुर पटोरी- बछवाड़ा रेलखंड दोहरीकरण परियोजना का हिस्सा है । इसकी स्वीकृति वर्ष 2015-16 में मिली थी। अभी तक बछवाड़ा यार्ड में दो हाई लेवल प्लेटफार्म व एक रेल लेवल प्लेटफार्म सहित कुल पांच रनिंग लाइनें थीं। यहां पर स्टेशन में प्रवेश के लिए कोई उचित प्रवेश द्वार नहीं था। अब तीन अतिरिक्त लाइनें, दो नये हाई लेवल प्लेटफार्म, एक रेल लेवल प्लेटफार्म को हाई लेवल तक ऊंचा करना शामिल हुआ है। इसके साथ- साथ आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित नए स्टेशन बिल्डिंग सहित पैदल ऊपरी पुल का निर्माण, सभी यात्री सुविधाओं का विस्तार, सर्कुलेटिंग एरिया सहित उचित प्रवेश द्वार, नया जीआरपी थाना तथा पैदल ऊपरिपुल का एक्सटेंशन भी कराया जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Trains of three directions will pass simultaneously through Bachwara Junction