DA Image
22 जनवरी, 2021|3:50|IST

अगली स्टोरी

नया बिल मजदूरों के सार्वभौमिक हित पर हमला

default image

कल राज्यसभा में श्रम से जुड़े तीन कोड बिल को विपक्ष के अनुपस्थिति में जिस तरीके से पास करवाया गया, यह सीधे तौर पर मजदूरों के सार्वभौमिक हित पर हमला है। ये बातें बीएसएसआर यूनियन के सदस्य आर एस राय ने कहीं। उन्होंने कहा कि हम बीएसएसआर यूनियन के सदस्य सरकार के इस कदम का विरोध एवं निंदा करते हैं। बिल के अनुसार कर्मचारियों को नियोक्ता स्वेच्छा से निकाल सकते हैं तो ग्रैच्युटी फिर कैसे मिलेगी। अब सरकार तीन महीने, छह महीने व एक साल के लिए नियुक्ति पत्र देगी तो उन कर्मचारियों को ग्रैच्युटी कैसे मिलेगा। नए श्रम कोड में संविदा व ठेका मजदूर के सामाजिक सुरक्षा का क्या होगा? इस नए कोड बिल का सीधा मतलब बड़े पूंजीपतियों को श्रम संशोधन के नाम पर फायदा पहुंचना है। मजदूरों को उनके वर्षों से लागू श्रम कानून से वंचित करना है। उन्होंने कहा कि हम इस बिल का विरोध करते हैं। आने वाले समय में हम मजदूर सरकार के इस मजदूर विरोधी बिल का पुरज़ोर विरोध करते हुए मजदूरों के हित में संघर्ष करते रहेंगे। उन्होंने सरकार से इस बिल को तुरंत वापस लेने की मांग की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The new bill attacked the universal interest of workers