DA Image
19 जनवरी, 2021|8:21|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस के वाहक न बन जाएं बाहर से आने वाले लोग

default image

बाहर से आने वाले लोग कोरोना वायरस के वाहक न बन जाएं। इस मामले में एहतियात बरतते हुए कोरोना वायरस से बचाव को लेकर प्रखंड प्रशासन सजग दिख रहा है। दूसरी ओर परदेस से गांव लौट रहे लोगों के आगमन से कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा प्रखंड क्षेत्र में मंडरा रहा है। बाहर से आने वाले लोगों को चिकित्सकीय जांच के बाद डाक्टर द्वारा उन्हें घर में रह कर क्वारंटाइन अवधि बिताने की सलाह दे रहे हैं लेकिन वैसे लोग सरेआम बाहर निकल कर दूसरे लोगों के लिए परेशानी का सबब बनते जा रहे हैं। स्थानीय लोगों से सूचना पाकर प्रशासनिक दबिश के बाद वह अपने घर में चले जाते हैं लेकिन उनके बेखौफ बाहर घूमने की प्रवृत्ति में कोई सुधार नहीं हो रहा है। बीडीओ अनुरंजन कुमार ने बताया कि गुरुवार तक परदेस से प्रखंड क्षेत्र के अनेक गांव में आने वाले लोगों की संख्या 600 के पार चली गई है। वहीं, कुछ लोग चुपचाप अपने घर में कैद हो गए हैं जिनके बारे में जानकारी हासिल करने में कठिनाई हो रही है। ऐसी हालत में उनकी जांच प्रखंड प्रशासन के लिए गंभीर चुनौती बनती जा रही है। उन्होंने बताया कि हाल ही में दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, केरल सहित अन्य राज्यों से बड़े पैमाने पर प्रवासी अपने घर लौटे हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने परदेस से लौटे लोगों की जांच कर अधिकतर लोगों को 14 दिन तक होम कोरेंटाइन में रहने की सलाह दी है। वहीं, कुछ लोगों को मध्य विद्यालय तारा बरियारपुर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय दौलतपुर सहित कोरनटाइन सेन्टर के रूप में चिह्नित अन्य विद्यालयों में रखा गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:People from outside should not become carriers of Corona virus