DA Image
5 दिसंबर, 2020|4:18|IST

अगली स्टोरी

बिना कोई प्लानिंग के नगर निगम कर रहा काम

default image

नगर निगम के हालात काफी खराब हो गयी है। जिस तरह से शहर के अंदर नल जल योजना के नाम पर गड्ढा खोद के छोड़ दिया गया है उससे आम लोग त्राहिमाम कर रहे हैं। न तो शहर में जल निकासी की कोई अच्छी योजना है न ही कोई टाउन प्लानिंग है। बिना योजना के शहर के अंदर निगम प्रशासन जैसे तैसे काम को अंजाम दे रहा है। इससे शहर के अंदर कचरा और जलजमाव एक महत्वपूर्ण समस्या बन गयी है। अगर जल्द ही निगम प्रशासन इन चीजों को नही सुधारता तो एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा। ये बातें माकपा नेता व सीटू राज्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कहीं।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के देशव्यापी 20-27 अगस्त के अखिल भारतीय प्रतिरोध सप्ताह कार्यक्रम के तहत माकपा शहर लोकल कमेटी के तत्वावधान में नगर निगम कार्यालय के समक्ष एक दिवसीय प्रतिवाद धरना दिया गया। प्रतिवाद धरना से पूर्व माकपा नेता व कार्यकर्त्ता गांधी स्टेडियम में इकट्ठा हो कर नगर निगम तक प्रतिवाद मार्च किया। प्रतिवाद मार्च का नेतृत्व माकपा जिला सचिव मंडल सदस्य अंजनी कुमार सिंह, प्रभारी शहर लोकल कमिटी सचिव अभिनंदन झा, रमेश मिश्र, मो इदरीश, निगम महतो, मो. आलम, मो. सुलतान, विक्की पासवान एवं मो. किस्मत आदि ने किया। धरना सभा में प्रदर्शनकारियों ने जम कर नगर निगम प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

ये थी प्रदर्शनकारियों की मांग

लॉक डाउन अवधि के लिए आयकर सीमा से बाहर के परिवारों को साढ़े सात हजार रुपया महीना व बेरोजगार बने कामगारों को दस हजार रुपया प्रति महीने लॉक डाउन भत्ता दिया जाय। प्रधानमंत्री आवास योजना में व्याप्त धांधली को समाप्त किया जाय। एनएच के बगल में स्टेशन चौक से रेलवे ओवरब्रिज तक टैक्सी स्टैंड व ऑटो स्टैंड की वैकल्पिक व्यवस्था हो। जल नल योजना के नाम पर किये गए गड्ढे को अविलंब दुरुस्त किया जाय। शहर से कचरा और जलजामव अविलंब दूर किया जाय। महामारी प्रतिरोधक छिड़काव, फोगिंग अभियान सतत चलाया जाए। लॉक डाउन काल का गृह टैक्स, बिजली बिल एवं अन्य सभी प्रकार के कर्ज माफ किये जाय। फुटपाथ दुकानदारों एवं घरेलू खुदरा व्यसायियों की सुरक्षा दी जाय।

सभी प्रकार के ऋण वसूली पर रोक लगाई जाए। कबीर अंत्येष्टि योजना का भुगतान तुरंत किया जाय। सभी गरीबों को राशनकार्ड दिया जाय। सामाजिक सुरक्षा पेंशन देना सुनिश्चित किया जाय।सहित अन्य सोलह सूत्री मांग थी।

प्रतिरोध प्रतिवाद धरना के अंत में पांच सदस्यीय शिष्टमंडल सीटू राज्य सचिव अंजनी कुमार सिंह के नेतृत्व में अपना 32 सूत्री मांगों का ज्ञापन नगर आयुक्त को सौंप कर त्वरित कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि काम नहीं होने पर एक बड़ा आन्दोलन किया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Municipal corporation is doing work without any planning