DA Image
14 अगस्त, 2020|7:56|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन में चुनौतियों को अवसर में बदलने वाले अनुकरणीय

default image

जीडी कॉलेज में गुरुवार को एक भारत श्रेष्ठ भारत क्लब के द्वारा लॉकडाउन के दौरान वेब लघु संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कोविड- 19 और हमारी गतिविधियां विषयक संगोष्ठी का संयोजन महाविद्यालय के सांस्कृतिक विभाग के छात्रों व क्लब के कुल 23 प्रतिभागियों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

कार्यक्रम के नोडल अधिकारी व अंग्रेजी विभागाध्यक्ष प्रो. कमलेश कुमार ने कहा कि लॉकडाउन को लेकर हमारे सामने ढेर सारी चुनौतियां सामने आ रही हैं। जो छात्र इन चुनौतियों को अवसरों में बदल रहे हैं वह निश्चित रूप से अनुकरणीय है। हमारे सामने सोशल डिस्टेंसिंग की स्थिति बनी हुई है। फिर भी रचनात्मक कार्य करते हुए अपने आपको समाज के बीच प्रेरक संदेश दे सकते हैं। उन्होंने छात्रों द्वारा लॉकडाउन की अवधि में किए गए कार्यों की प्रशंसा की। डॉ. सहर अफरोज ने कहा कि लॉकडाउन हमें एकाकीपन में भी जीने के लिए प्रेरित करता है। कुछ ऐसे काम भी हैं जिसे अकेले भी कर सकते हैं। प्रो. आरुणि कुमार ने अपने कार्यों की चर्चा करते हुए छात्रों की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि इस अवधि में रचनात्मक कार्यों को संपादित करना होगा। महाविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष पुरुषोत्तम कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए जारी लॉकडाउन समस्य जरूर है लेकिन इसे हम अवसर के रूप में बदलने की क्षमता रखते हैं। सांस्कृतिक समन्वयक डॉ. कुंदन कुमार ने छात्रों से जुड़ने व उन्हें आत्मबोध कराने के लिए इस तरह की लघु संगोष्ठियों की आवश्यकता पर बल दिया। मौके पर अनुष्का, ज्योति कुमारी, कौशिकी सिन्हा, राहुल कुमार, प्रशिक्षक किशन पंडित, सोनू कुमार, शिवम पटेल, शिवम कुमार, सोनाली कुमारी, पिंटू भारद्वाज ने भी विचार रखे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Exemplary to turn challenges into lockdown into opportunities