DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › बेगूसराय › जिले में डेंगू ने दी दस्तक, दो मरीज पॉजिटिव
बेगुसराय

जिले में डेंगू ने दी दस्तक, दो मरीज पॉजिटिव

हिन्दुस्तान टीम,बेगुसरायPublished By: Newswrap
Tue, 21 Sep 2021 07:41 PM
जिले में डेंगू ने दी दस्तक, दो मरीज पॉजिटिव

बेगूसराय। निज प्रतिनिधि

जिले में डेंगू ने दस्तक दी है। निजी अस्पताल की ओर से दो डेंगू बीमारी से पीड़ित मरीजों की सूची सीएस कार्यालय को उपलब्ध करायी गयी है। दोनों मरीजों का आईजीएम पॉजिटिव पाया गया है। निजी अस्पतालों में डेंगू मरीज की संख्या लगातार बढ़ने से खासकर शहरवासी परेशान हैं। लेकिन सदर अस्पताल में अभीतक एक भी डेंगू का मरीज नहीं आया है। इस बीमारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से तैयार है। सीएस डॉ. विनय कुमार झा ने बताया कि डेंगू से निबटने के लिए विभाग ने तैयारी कर ली है। सदर अस्पताल में पांच बेड का आईसोलेशन वार्ड बनाया गया है। जबकि सभी पीएचसी में दो-दो बेड बनाये गये हैं। छिड़काव कराये जा रहे हैं। दवाई भी भरपूर मात्रा में उपलब्ध है।

डेंगू की जांच के लिए एंटीजन कीट की सुविधा उपलब्ध है। सही तरीके से जांच के लिए पीएमसीएच पटना सेंपल भेजा जाता है। वहां से आईजीएम पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर उसे डेंगू मरीज माना जाता है। सीएस ने बताया कि सितंबर से नवंबर माह तक डेंगू मच्छर का प्रभाव रहता है। उन्होंने बताया कि डीएम अरविंद कुमार वर्मा की सक्रियता से सरकारी स्तर ब्लड प्लेटलेट्स के लिए ब्लड सेपरेशन मशीन भी उपलब्ध है। सरकार से लाइसेंस मिलते ही ब्लड सेपरेशीन मशीन काम करना शुरू कर देगा। इससे डेंगू के कारण प्लेटलेट्स की कमी होने पर अब पटना की जाने की जरूरत नहीं होगी।

एलेक्सिया के निदेशक कॉर्डियोथोरासिक व वैस्कुलर सर्जन डॉ.धीरज कुमार ने बताया कि कोविड की तीसरी लहर आने की संभावना है। इसी बीच डेंगू का कहर। दोनों में बुखार भी आता है। दोनों ही स्थिति में प्लेटलेटस की मात्रा कम हो जाती है। जिला प्रशासन को चाहिए कि समय रहते एक ठोस योजना के तहत इसकी तैयारी हो। ताकि कोविड की तीसरी लहर व डेंगू के किसी भी स्थिति से निबटा जा सके।

सिटी चिल्ड्रेन हॉस्पिटल के निदेशक व नवजात शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. अरविंद कुमार ने बताया कि स्कूल जाने वाले उम्र के बच्चे डेंगू से पीड़ित हो रहे हैं। तेज बुखार होने के साथ प्लेलेट घट जाता है। बच्चा खाना पीना छोड़ देता है व कमजोर हो जाता है। यदि बच्चों में इस तरह के लक्ष्ण दिखे तो चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

फिजिशियन व डॉय बिटोलॉजिस्ट डॉ. राहुल कुमार ने डेंगू पीड़ित मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है। डेंगू बुखार मच्छर काटने से होता है। ये मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। इसे ब्रेक बोन फीवर भी कहा जाता है। इसमें सर, बदन, घुटने से नीचे दर्द व बुखार आता है। इस बीमारी में प्लेटलेट की संख्या ब्लड में कम हो जाती है। जिससे ब्लीडिंग का खतरा रहता है। लक्षण उत्पन्न होने पर तुरंत डॉक्टर से मिलकर जांच कराने का सुझाव दिया। बुखार बदन दर्द के लिए पारासिटामोल की गोली लेने, शरीर में हाईड्रेशन को मेंटन रखना चाहिए।

संबंधित खबरें