ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार बेगूसरायहड़ताल से वापस नहीं लौटने वाली जिले की 213 आंगनबाड़ी सेविका चयनमुक्त

हड़ताल से वापस नहीं लौटने वाली जिले की 213 आंगनबाड़ी सेविका चयनमुक्त

युवा पेज:::::::: विभागीय आदेश के बाद भी 30 नवंबर तक हड़ताल से वापस नहीं लौटने वाली 213 आंगनबाड़ी केंद्र की सेविकाओं को आईसीडीएस के डीपीओ ने सीडीपीओ की अनुशंसा पर तत्काल प्रभाव से चयनमुक्त कर...

हड़ताल से वापस नहीं लौटने वाली जिले की 213 आंगनबाड़ी सेविका चयनमुक्त
हिन्दुस्तान टीम,बेगुसरायSun, 03 Dec 2023 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

बेगूसराय, निज प्रतिनिधि। विभागीय आदेश के बाद भी 30 नवंबर तक हड़ताल से वापस नहीं लौटने वाली 213 आंगनबाड़ी केंद्र की सेविकाओं को आईसीडीएस के डीपीओ ने सीडीपीओ की अनुशंसा पर तत्काल प्रभाव से चयनमुक्त कर दिया है। इससे सेविकाओं में हड़कंप मच गया है। एक दिसंबर को आईसीडीएस कार्यालय से निर्गत पत्र के अनुसार आंगनबाड़ी सेविका सहायिक संघ के आह्वान पर 29 सितंबर से जिले की सेविका व सहायिकाएं हड़ताल पर है। इससे समेकित बाल विकास सेवाओं पर गंभीर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। बच्चों व गर्भवती, धातृ महिलाओं के लिए पोषाहार एवं अन्य महत्वपूर्ण सेवाएं अवरूद्ध है। यह राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा को सुनिश्चित के लिए समय-समय पर निर्गत न्यायादेशों का उल्लंघन है।
सभी सीडीपीओ द्वारा भी विभिन्न तिथियों में हड़तालरत सेविका व सहायिका को कर्तव्य पर वापस आने के लिए नोटिस दी गयी। शोकॉज पूछा गया। सीडीपीओ व एलएस के द्वारा सेविका व सहायिक से वार्ता कर हड़ताल से वापस आने का अनुरोध भी किया गया। उसके बाद बाद भी 30 नवंबर तक सभी सेविका व सहायिका हड़ताल से वापस नहीं आयी है, जो उनकी उदंडता, अनुशासनहीनता, व स्वेच्छाचारिता का परिचायक है। ऐसा प्रतीत होता है कि सेविका व सहायिका को अपने कार्य में अभिरूचि नहीं है। ऐसी परिस्थिति में उन्हें सेविका व सहायिका के पद पर बने रहने का कोई औचित्य नहीं है। सचिव समाज कल्याण विभाग द्वारा लगातार वीसी के माध्यम से वापस नहीं लौटने वाली सेविका व सहायिका को चयनमुक्त करने का निदेश दिया जाता रहा है।

बेगूसराय ग्रामीण में सबसे अधिक 100 सेविकाओं पर गिरी गाज

आईसीडीएस कार्यालय से निर्गत पत्र के अनुसार वीरपुर में केंद्र 35, 36, 37, 38, 39, 40, 41, 42, 43,44, 45,46, 47, 48, 49, 90, 91, 92, 93, 94 और 95, नावकोठी में केंद्र संख्या 2,3,4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 18, 19, 20, 21, 22, 23, 24, 25, 81, 85, 89, 96, 105, और 106, छौड़ाही में केंद्र संख्या 5, 7, 12, 11, 13, 15, 16, 17, 18, 19, 21, 32, 36, 27, 29, 48, 44, 43, 45, 4, 90, 56, 57, 87, 66, 89, 91, 88, 76, 114, 108, 102, 83, 54, 124, 130, 81, 80 और106, साहेबपुरकमाल में केंद्र संख्या 11, 57, 35, 107, 208, 214, 211 और 46 की सेविका का नाम शामिल है। इसी तरह भगवानपुर में केंद्र संख्या 129 138, 36, 10 155, 157, 44, 162, 163, 164 और166, गढ़पुरा में केंद्र संख्या 14, 45, 65 और 76, बेगूसराय ग्रामीण में केंद्र संख्या 76, 77, 78, 80, 81, 82, 83, 119, 122, 123, 124, 126, 127, 131, 134, 148, 154, 158, 163, 164, 173, 174, 175, 176, 177, 179, 180, 181,182, 183, 184, 198, 200, 201, 203, 204, 205, 206, 208, 232, 233, 234, 235, 236, 237, 249, 251, 265, 266, 267, 268, 269, 270, 271, 273, 274, 285, 286, 287, 288, 290, 292, 293, 294, 308, 310, 311, 312, 331, 332, 333, 334, 335, 338, 367, 368, 369, 370, 371, 372, 379, 380, 381, 382, 383, 384, 385, 386, 397, 398, 400, 414, 415, 424, 427, 428, 436 व 437 केंद्र की सेविका का नाम शामिल है। डीपीओ ने संबंधित सीडीपीओ को संबंधित सेविकाओं को चयनमुक्त आदेश तामिला सुनिश्चित कराने को कहा है। साथ तामिला आदेश कार्यालय को उपलब्ध कराने का भी न निदेश दिया है। डीपीओ ने अपने आदेश में कहा है कि आईसीडीएस निदेशालय पटना के 15 अप्रैल 2021 के संशोधित दंड प्रावधान के आलोक में अपील की जा सकती है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें