ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार बांकामौत के साये में रहने से विरेन्द्र को मिली नई पहचान

मौत के साये में रहने से विरेन्द्र को मिली नई पहचान

उत्तराखंड सुरंग हादसाउत्तराखंड सुरंग हादसा वीरेंद्र से मिलकर छलके पत्नी रजनी टुडू के आंसू सुरंग से निकलने के दो दिन बाद ऋषिकेश एम्स में...

मौत के साये में रहने से विरेन्द्र को मिली नई पहचान
हिन्दुस्तान टीम,बांकाFri, 01 Dec 2023 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

कटोरिया (बांका) निज प्रतिनिधि
कोई इंसान अगर अपनों से बिछड़कर फिर से मिल जाए तो उसके लिए इससे बड़ी खुशी कुछ नहीं होती। गुरुवार को जब रजनी टुडू मौत से लड़कर आये अपने सुहाग से मिली तो उसके आंखों से भी आंसू छलक गए। वहीं वीरेंद्र किस्कू को यह सब सपना जैसा लग रहा है। गुरुवार शाम फोन पर बातचीत के दौरान वीरेंद्र ने बताया कि सुरंग में फंसने के बाद लगा मानो अब सब खत्म हो गया। सुरंग के अंदर 17 दिन मौत के साये में बीता। काफी तकलीफें तो झेलनी पड़ी लेकिन बाहर निकलने पर उसे इतने खूबसूरत पल देखने को मिलेंगे इसका अंदाजा नहीं था। वीरेंद्र ने बताया कि आज इस हादसे की वजह से उसे एक नई पहचान मिल गयी है। वह घर से दूर प्रदेश में रहकर मजदूरी करते हुए गुमनामी में जीवन गुजार रहा था। अपने क्षेत्र के विधायक या अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि तक उसे नहीं पहचानते थे। लेकिन 17 दिनों तक मौत के साये में रहकर वापस आने पर आज देश के प्रधानमंत्री से लेकर पूरा देश उससे परिचित हो गया। उत्तराखंड के राज्यपाल व सीएम के साथ साथ केंद्रीय मंत्री सहित अन्य बड़े बड़े राजनेताओं व अधिकारियों के साथ मिलना उसे सपने जैसा लग रहा है। इधर, वीरेंद्र को सुरंग से निकाले जाने के दो दिन बाद गुरुवार को पत्नी रजनी टुडू ऋषिकेश एम्स में उससे मिली। जीवनसाथी को देख रजनी टुडू ने रोते बिलखते हुए अपने पति को गले लगा लिया। पति के मिलने के बाद पत्नी ने कहा कि मुझे मेरे भगवान मिल गए। पति-पत्नी का मिलन मौके पर मौजूद हर किसी के दिल को छू गया। इस दृश्य को देख वहां मौजूद हर किसी की आंखें नम हो गईं। पत्नी ने कहा कि सुरंग में फंसे पति के 17 दिन उसके जीवन के सबसे कठिन दिन थे। पति के इंतजार में एक-एक दिन एक-एक साल की तरह कट रहा था। रोज उम्मीद बंधती थी कि आज पति बाहर आ जाएंगे लेकिन शाम में मायूसी छा जाती थी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें