ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार बांकामिशन दक्ष 46 हजार कमजोर बच्चों को अंक व भाषाई ज्ञान में बनाएगा दक्ष

मिशन दक्ष 46 हजार कमजोर बच्चों को अंक व भाषाई ज्ञान में बनाएगा दक्ष

पेज चार की लीडपेज चार की लीड आज से जिले के 1987 स्कूलों में शुरू होगा मिशन दक्ष 8298 शिक्षक कमजोर बच्चों को देंगे गणित व हिंदी...

मिशन दक्ष 46 हजार कमजोर बच्चों को अंक व भाषाई ज्ञान में बनाएगा दक्ष
हिन्दुस्तान टीम,बांकाFri, 01 Dec 2023 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

बांका। जिले में शुक्रवार से 1987 स्कूलों में शुरू हो रहे मिशन दक्ष चिन्हित किये गये 46 हजार 152 कमजोर बच्चों को अंक व भाषाई ज्ञान में दक्ष बनाएगा। इसके लिए शिक्षा विभाग ने गणित व भाषा विषय में कमजोर बच्चों को सामान्य बच्चों की श्रेणी में लाने के लिए मिशन दक्ष की शुरूआत की है। जिसका संचालन 2066 स्कूलों में किया जाना है। लेकिन अब तक एसएस को 1987 स्कूलों का ही डाटा मिला है। जहां मिशन दक्ष का संचालन किया जायेगा। डाटा मिलने के बाद स्कूल की संख्या में बढोतरी होगी। अभी इन स्कूलों के चिन्हित कमजोर बच्चों को गणित व भाषाई ज्ञान देने के लिए 8298 शिक्षकों को लगाया गया है। दक्ष मिशन के लिए जिले के स्कूलों में शिक्षा ग्रहण कर रहे कमजोर बच्चों का सर्वेक्षण कर उसका सत्यापन किया गया है। इस मिशन के तहत चिन्हित स्कूलों के शिक्षक कक्षा तीन से आठ तक के पांच-पांच बच्चों को गोद लेंगे। जिनकी जिम्मेदारी इन बच्चों को गणित व हिंदी विषय में दक्ष बनाने की होगी। इसके लिए शिक्षक विद्यालय की गतिविधि को छोडकर इन बच्चों के लिए विशेष कक्षा का संचालन करेंगे। इससे बच्चों को अंक व भाषाई ज्ञान होने के साथ ही उसका आत्मविश्वास भी बढेगा। वहीं, मार्च के अंतिम सप्ताह में वार्षिक परीक्षा का आयोजन होगा। इसके बाद कमजोर बच्चों के लिए जिला स्तर पर परीक्षा आयोजित की जाएगी। इस परीक्षा में बच्चों की सफलता और असफलता की जिम्मेदारी संबंधित स्कूल के प्रधान व शिक्षकों की होगी। इसमें बच्चों के खराब प्रदर्शन संबंधित स्कूलों के प्रधान व शिक्षकों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जायेगी। वहीं, मिशन दक्ष के कार्यों की समीक्षा के लिए डीएम के नेतृत्व में तीन सदस्यीय टीम गठित की गई है। जो इसकी लगातार समीक्षा करेंगे। जबकि इसकी मॉनिटरिंग के लिए जिला स्तरीय पदाधिकारियों को भी लगाया गया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें
अगला लेख पढ़ें