DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंधी में गिरे बिजली पोल दर्जनों गांवों में आपूर्ति ठप

आंधी में गिरे बिजली पोल दर्जनों गांवों में आपूर्ति ठप

बीते बुधवार की शाम प्रखंड के दक्षिणी हिस्से में आई आंधी से इस क्षेत्र के दर्जनों गांवों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। प्रखंड के सीमावर्ती बांका प्रखंड के धावाटांड़ नहर से लेकर पोखरिया तक आधा दर्जन से अधिक बिजली पोल गिर जाने से इस क्षेत्र के लिखनी कोझी, कुशाहा, मैनवरण, गुरमिया, हाहा, तेतरिया, ओल्हानी, झझवा, गोड़ा, सलैया, केड़िया, चेंगाखांर, इनारावरण सहित करीब दो दर्जन से अधिक गांवों में बिजली आपूर्ति ठप है। ग्रामीण प्रमोद दास, प्रवीण पाण्डेय, राकेश यादव, कामेश्वर यादव, रोहित यादव आदि ने बताया कि बांका फिडर से आने वाले सभी बिजली तार जर्जर होने के कारण अक्सर टूट कर गिरने से इस क्षेत्र में बिजली बाधित हो जाती है। ग्रामीणों ने बताया कि बुधवार की शाम से बिजली कटने के बाद इन सभी गांव के लोग अंधेरे में रहने के लिए मजबूर हैं। इस बाबत बिजली कंपनी के अधिकारी ने बताया कि रूट में काम शुरू है। बहुत जल्द बिजली बहाल कर दी जाएगी।एक तरफ बारिश नहीं होने से किसान चिंतित थे वहीं दूसरी तरफ आंधी के साथ बारिश में बिजली के गुल होने से लोगों की परेशानी बढ़ गयी है। इससे लोग परेशान हैं। बारिश से लोगों को मिली गर्मी से राहतपंजवारा ( बांका)। पंजवारा एवं इसके आसपास के क्षेत्रों में गुरुवार शाम बारिश होने से जहां एक तरफ लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली। वहीं दूसरी तरफ किसानों के लिए भी यह बारिश राहत का पैगाम लेकर आई। हल्की हवा के साथ हुई बारिश के बाद किसानों के मुरझाए चेहरे पर मुस्कान खिल उठी। मालूम हो कि, मानसून की बेरुखी के चलते पानी नहीं पड़ने से क्षेत्र के किसानों के बीच निराशा का माहौल था। हालांकि, बुधवार को भी क्षेत्र में हल्की बारिश हुई थी। लेकिन उससे खेतों में नमी नहीं हो पाई थी। गुरुवार को हुई बारिश के बाद खेतों में नमी होने की बात किसानों द्वारा बताई जा रही है। इस पानी के पड़ने के बाद किसान धान के बिचड़े की बुआई का कार्य युद्धस्तर पर शुरू कर सकेंगे। वहीं दूसरी ओर बारिश से मौसम सुहाना हो गया। साथ ही लोगों को भीषण उमस भरी गर्मी से भी कुछ हद तक राहत मिली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Lightning collapsed in dozens of villages