DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संगीनों के साए में खाली करायी गयी वन विभाग की जमीन

संगीनों के साए में खाली करायी गयी वन विभाग की जमीन

जिला मुख्यालय से करीब पांच किलोमीटर दूर बांका -अमरपुर मार्ग पर समोखिया मोड़ के समीप अतिक्रमित वन विभाग के करीब 140 एकड़ जमीन को मंगलवार को खाली करवायी गयी। यह कार्रवाई भागलपुर के प्रमंडलीय आयुक्त के आदेश पर की गई। उक्त जमीन पर विगत कई वर्षों से दबंगों का कब्जा था। जमीन को खाली करवाने के लिए एसडीओ मनोज कुमार चौधरी के नेतृत्व में भारी संख्या में मजिस्ट्रेट व पुलिस बल को तैनात किया गया था। जमीन पर कब्जा को लेकर डीएफओ शशिकांत, बांका सीओ दीपक कुमार एवं वन विभाग के कई अन्य पदाधिकारी भी मौजूद थे।

ज्ञात हो कि समोखिया मोड़ के पास करीब 140 एकड़ जमीन पर दबंगों का कई वर्षों से कब्जा था। इस जमीन पर होटल के साथ ही मकान आदि भी बना लिया गया था। यह जमीन तत्कालीन सीओ के मिलीभगत से फर्जी रूप से करीब 75 लोगों के नाम से जमाबंदी कर दी गई थी। जमीन के जमाबंदी का खेल करीब तीस वर्षों से चल रहा था। करीब तीन वर्षों पूर्व वन विभाग को इसकी भनक मिली जब कुछ दबंगों ने इस जमीन की घेराबंदी कर इसमें होटल बना लिया। इस संबंध में वन विभाग के द्वारा उक्त जमीन को लेकर बांका एडीएम कोर्ट में मामला दायर किया गया। गत 21 जनवरी 2017 को एडीएम ने सुनवाई करते हुए उक्त 140 एकड़ जमीन की जमाबंदी खारिज करते हुए वन विभाग के पक्ष में फैसला सुनाया था। इसके बाद डीएम के कोर्ट में मामला चला गया। तत्कालीन डीएम निलेश देवरे ने उक्त जमीन पर अतिक्रमण खाली करवाने का आदेश वन विभाग को जारी कर दिया था। तत्कालीन बांका सीओ को डीएम ने इस मामले में दोषी पाते हुए शोकॉज किया तथा सीओ पर प्रपत्र ‘क गठित करने की भी अनुशंसा की गई थी। इसके बाद मामला प्रमंडलीय आयुक्त के पास चला गया और अंतत: प्रमंडलीय आयुक्त के आदेश पर उक्त जमीन को अतिक्रमण मुक्त करवाया गया। इसके बाद उक्त जमीन पर वन विभाग ने अपना बोर्ड भी लगा दिया। डीएफओ शशिकांत ने बताया कि उक्त जमीन पर विभाग के द्वारा किस योजना को स्थापित किया जाएगा इस संदर्भ में विचार किया जा रहा है।

भू माफियाओं को लगा बड़ा झटका

समोखिया मोड़ स्थित वन विभाग की जमीन खाली करवाए जाने के बाद बांका के भू माफियाओं को एक बड़ा झटका लगा है। सूत्रों की मानें तो बांका में भू माफियाओं की करतूत के कारण कई जमीन पर विवाद चल रहा है। समोखिया मोड़ से आगे भी एक बड़े भू भाग जो कि वन विभाग का है उसपर भी दबंगों ने फर्जी रूप से कब्जा कर रखा है। वन विभाग भी दबी जुबान से इस बात को स्वीकारता है। बांका शहर में भी कई ऐसे भू माफिया है जो एक ही जमीन को कई लोगों के पास बेच चुका है। साथ ही कई गरीबों को धमका कर उसका जमीन लिखवा लिया जाता है। हाल के दिनों में बांका थाना में एक प्राथमिकी भी भागलपुर के एक महिला के द्वारा दर्ज की गई है जिसमें पीड़िता ने कहा कि जगतपुर स्थित एक जमीन को भू माफियाओं ने उनसे झांसा देकर पावर ऑफ अटर्नी ले लिया तथा उसे बेचना भी शुरू कर दिया। जिला व पुलिस प्रशासन अगर सख्त हो तो कई भू माफियाओं पर अंकुश लगाया जा सकता है।

फोटो- 7, 8, 9

समोखिया मोड़ के पास वन विभाग की जमीन से अतिक्रमण हटाता जेसीबी, विधि व्यवस्था को लेकर निगरानी करते एसडीओ व अन्य

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Land of forest department reduced in the face of gutters