Bottling plant will be gifted with the start of new year - ‘नए साल के आगाज के साथ मिलेगी बॉटलिंग प्लांट की सौगात DA Image
11 दिसंबर, 2019|11:37|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘नए साल के आगाज के साथ मिलेगी बॉटलिंग प्लांट की सौगात

default image

भागलपुर कमिश्नरी एवं संताल परगना में दूर होगी गैस की किल्लतडीएम ने गैस बॉटलिंग प्लांट को जारी किया एनओसी 130 करोड़ की लागत से स्थापित हुआ इंडियन ऑयल गैस बॉटलिंग प्लांट 1500 करोड़ खर्च किए गए गैस पाइप लाइन बिछाने पर 30 एकड़ के दायरे में फैला है गैस बॉटलिंग प्लांट 40 हजार गैस की रिफिलिंग किये जाने की क्षमता

बांका। निज प्रतिनिधि

बांका जिले को नए साल के आगाज के साथ ही गैस बॉटलिंग प्लांट की सौगात मिलेगी। जिला प्रशासन की ओर से इंडियन ऑयल गैस प्लांट को एनओसी जारी कर दिया गया है। कंपनी के अधिकारिक सूत्रों की मानें तो 2020 के जनवरी माह में ही इसके चालू होने की संभावना है। जिसका निर्माण कार्य 2014 में ही शुरू किया गया था। जिसे पूरा होने में करीब पांच साल का वक्त लगा। गैस बॉटलिंग प्लांट के चालू होने से भागलपुर कमिश्नरी सहित झारखंड के संताल परगना में गैस की किल्लत दूर होगी। यहां से बांका सहित अन्य जिले व प्रांतों में गैस सिलिंडर की आपूर्ति की जाएगी। इसमें बिहार के बांका, भागलपुर, नवगछिया, कटिहार व किशनगंज जिले को प्राथमिकता के तौर पर गैस सिलिंडर उपलब्ध कराए जाएंगे। यहां गैस की रिफिलिंग पूरी तरह ऑटोमेटिक सिस्टम पर आधारित है। इसके लिए प्लांट में आधुनिक डिजिटल मशीनों का उपयोग किया गया है। यहां गैस सिलिंडर की रिफिलिंग से लेकर उसकी लोडिंग तक डिजिटल मशीन पर आधारित होगी। वहीं, किसी भी तरह की आपदा से निपटने के लिए यहां 25-25 हजार की क्षमता वाले तीन वाटर टैंक बनाए गए हैं। इसके अलावा प्लांट के हर प्वाइंट पर अग्निशमन यंत्र लगे हैं।1.30 करोड़ से हुई बॉटलिंग प्लांट की स्थापना जिले के मसूदनपुर में एक करोड़ 30 लाख की लागत से एलपीजी गैस बॉटलिंग प्लांट की स्थापना की गई है। जो करीब 30 एकड़ के दायरे में फैला है। जिसकी क्षमता हर दिन 40 हजार सिलिंडर की रिफिलिंग किए जाने की है। लेकिन शुरुआती दौर में अभी यहां 20 हजार सिलिंडर की रिफिलिंग की जाएगी। इसके बाद जल्द ही यहां 40 हजार गैस सिलिंडर की रिफिलिंग का कार्य शुरू कर उसकी आपूर्ति की जाएगी। पाराद्वीप से प्लांट को की जाएगी गैस की सप्लाई बांका बॉटलिंग को पाराद्वीप से एलपीजी गैस मुहैया कराई जाएगी। गैस बॉटलिंग प्लांट को दुर्गापुर से पाइप लाइन के जरिये गैस की सप्लाई की जाएगी। पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से बिहार के दीघा तक करीब 600 किलोमीटर तक गैस पाइप लाइन बिछाई गई है। जिसमें हर 25 किलोमीटर की दूरी पर जंक्शन बनाए गए हैं। जिससे गैस पाइप लाइन में कहीं भी किसी वजह से पाइप लाइन में खराबी आने पर गैस की सप्लाई रोककर उसे दुरुस्त किया जा सके। इसके अलावा यहां से किसी भी प्लांट क्षेत्र में गैस की सप्लाई भी की जा सकती है। 2000 लोगों को मिलेगा रोजगारबांका गैस बॉटलिंग प्लांट चालू होने से यहां प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जिले के करीब दो हजार लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। इसमें गैस बॉटलिंग प्लांट सहित गैस की आपूर्ति किए जाने के क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। जिससे आने वाले समय में गैस रिफिलिंग के क्षेत्र में बांका जिला आत्मनिर्भर बनने के साथ ही रोजगार मुहैया कराने का हब भी बनेगा। कोट. . . बांका गैस बॉटलिंग प्लांट के हर तकनीकी पहलुओं की जांच करने के बाद जिला प्रशासन की ओर से कंपनी को एनओसी जारी कर दिया गया है। जनवरी माह से यहां गैस सिलिंडर की रिफिलिंग एवं उसकी आपूर्ति किए जाने की संभावना है। इसके लिए सरकार के निर्देश का इंतजार है। - कुंदन कुमार, डीएम बांका

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bottling plant will be gifted with the start of new year