DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सल व संवेदशील बूथों पर भी जमकर पडे़ वोट

वाल्मीकिनगर लोकसभा क्षेत्र के दियारे एवं जंगल क्षेत्रों में भी मतदाताओंे का उत्साह देखने को मिला। जहां कभी नक्सल एवं दस्यु के भय से मतदाता अपने मत के प्रयोग नही कर पाते थे। आज उन्हीं मतदात केन्द्रों पर मतदाताओं ने जमकर मतदान किया। जंगल क्षेत्र हो या फिर दियारा क्षेत्र यहां के मतदान केन्द्रो ंपर सुबह से मतदाताओं की लंबी कतारें देखने को मिली। ज्यों ज्यों दिन चढता गया मतदाताओं की कतारें लंबी होती गई।

कभी क्षेत्र के नाम से जाने जाना वाला वैरागी सोनवर्षा ,जिमरी नौतनवा पंचायत में भी मतदाताओं ने जमकर अपने मत का प्रयोग किया। इन पंचायतों के प्राय: सभी मतदान केन्द्रों का आलम यह था कि मतदान के लिए निर्धारित समय तक मतदाताओं की कतारें देखने को मिली। बैरागी सोनवर्षा की 50 वर्षिय सोनिया देवी की माने तो उनका था कि एक समय था जब वे मतदान केन्द्र पर जाने से डरती थी लेकिन आज सुरक्षा की व्यवस्था बढी तो वे निर्भिक होकर मतदान किया। कुछ ऐसा हीं आलम गंडक पार के दियारे क्षेत्रों का भी रहा। दियारा क्षेत्र के मतदान केन्द्रों पर भी लोगों ने बिना भय के अपने मत का प्रयोग किया। कुछ ऐसा हीं आलम जंगलवर्ती क्षेत्र के गांवों का रहा। जहां मतदाताओं के उत्साह के कारण वोट प्रतिशत बढा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Voted votes on Naxal and sensory booths too