DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  बगहा  ›  बिना शिक्षक के चल रहे स्कूल व कॉलेज
बगहा

बिना शिक्षक के चल रहे स्कूल व कॉलेज

हिन्दुस्तान टीम,बगहाPublished By: Newswrap
Wed, 26 Sep 2018 11:43 PM
बिना शिक्षक के चल रहे स्कूल व कॉलेज

बिहार की शिक्षा व्यवस्था नर्क से भी खराब स्थिति में है। छात्रों की संख्या तो बढ़ती जा रही है लेकिन शिक्षकों की संख्या नदारद है। उक्त बातें विधान पार्षद व पूर्व मंत्री देवेश चंद्र ठाकुर ने बुधवार को गांधी का चम्पारण वर्तमान परिप्रेक्ष्य वित्तरहित शिक्षा समस्या व समाधान विषय पर हुए सेमिनार में कही। उन्होंने कहा कि जब तक वित्त रहित शिक्षकों को अनुदान की राशि नहीं मिल जाती तब तक विधायकों और विधान पार्षदों को वेतन नहीं मिलना चाहिए।

वहीं विधान पार्षद केदार नाथ पांडेय ने कहा कि सरकार को अगर नए कॉलेज खोलने के लिए जमीन नहीं मिल रही है तो वे वित्त रहित कॉलेजों को ही अधिग्रहित करके उसे सरकारी मान्यता दे दें।जिससे शिक्षकों को रोजगार भी मिल जाएगा। शिक्षा की समस्या को व्यापक समस्या बताते हुए नगर विधायक मदन मोहन तिवारी ने कहा कि सरकार शिक्षा और शिक्षकों के प्रति उदासीन हो चुकी है। गांधी की कर्मभूमि पर शिक्षकों का अनुदान के लिए के लिए रोना बहुत ही गलत है। पूर्व पार्षद चंद्रमा सिंह ने शिक्षकों को वेतनमान की लड़ाई जारी रखने की अपील की। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डॉ. परवेज आलम ने वित्त रहित शिक्षकों को अनुदान नहीं वेतनमान देने का मुद्द उठाया।

उन्होंने कहा कि सभी पार्षदों द्वारा हमारी बातों को सरकार के सामने रखा जाता है। मंच का संचालन जफर इमाम द्वारा किया गया। मौके पर रौशन कुमार, डॉ. संजय कुमार, डॉ. संतोष कुमार, डॉ. किशोर भारती, डॉ. सुमन कुमार मिश्र, डॉ. अरूण कुमार, डॉ. विनोद कुमार, डॉ. शोभा ओझा, डॉ. रिजवाना परवीन, डॉ. सीके गुप्ता, मारकण्डेय राय, नजिबुल हसन, केशव प्रसाद आदि मौजूद थे।

संबंधित खबरें