Positive thinking will be reconciliation - सकारात्मक सोच से होगी सुलह DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सकारात्मक सोच से होगी सुलह

सकारात्मक सोच से होगी सुलह

किसी भी विवाद में सुलह की प्रवृति व्यक्ति में पैदा हुए सकारात्मक सोच के कारण होती है। विवाद को इज्जत मान लेना भी समाजहित में खतरनाक होता है। ये बातें जिला जज अभिमन्यु लाल श्रीवास्तव ने व्यवहार न्यायालय परिसर में आयोजित नेशनल लोक अदालत में कही।

उन्होंने कहा कि न्यापालिका की सक्रियता के कारण ही अब न्यायालयों के द्वारा आए दिन लोक अदालतों का आयोजन किया जाता है। जहां वादों का निपटारा पक्षकारों के सहमति के पश्चात् ऑन द स्पॉट किया जाता है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव कुमार धीरेन्द्र राजाजी ने कहा कि जन उपयोगी सेवाओं से संबंधित विवादों का अधिक से अधिक निपटारा लोक अदालत के माध्यम से कराए जाने को ले विधिक सेवा प्राधिकार कृत संकल्प है। ऐसे में आप अपने मामलों का निपटारा लोक अदालत के माध्यम से कराने से ना चुके। इसका भरपूर लाभ उठाएं। लीड बैंक के मैनेजर अखिलेश कुमार द्विवेदी ने कहा कि लोक अदालत के माध्यम से मामलों का निपटारा कराये जाने से दोनों पक्षों की जीत होती है। वहीं आपसी सांमजस्य एवं भाईचारा भी कायम होता है। मंच का संचालन अधिवक्ता आरसी पाठक ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Positive thinking will be reconciliation