DA Image
18 जनवरी, 2020|11:37|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंडक में मोटरबोट दुर्धटनाग्रस्त, बाल-बाल बचे

गंडक में मोटरबोट दुर्धटनाग्रस्त, बाल-बाल बचे

गंडक नदी में बुधवार को एक मोटर बोट दुर्घटनाग्रस्त हो गयी। हालंाकि वोट पर सवारों की जान बाल बाल बच गयी। जिन्हें एनडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू करके सुरक्षित बाहर निकाल लिया। यह घटना ठकराहां थानाक्षेत्र के जगीरहां-धूमनगर नदी घाट पर उस समय घटी जब बोट चालक और सवार पेंटूल में रस्सा बांधने जा रहे थे। एनडीआरएफ के इंस्पेक्टर डी.पी चन्द्रा और अमोल कुमार ने रेस्क्यू के बाद बताया कि ठकराहां के धूमनगर जगीरहां के समीप दोपहर में एक मोटर वोट गंडक की बीच धारा में पेंटूल से टकरा करके दुर्घटनाग्रस्त हो गयी।

वोट पर आपरेटर समेत कुल तीन लोग सवार थे। एनडीआरएफ के अधिकारियों ने बताया कि वे लोग अमवा खास बंधे पर कैंप किए हैं। घटना की सूचना पाकर टीम के साथ मौके पर पहुंचे गये। और रेस्क्यू करके घटना के दो घंटे के भीतर गंडक की धार में फंसे ठकराहां थाना के उमाटोला गांव के प्रभुनाथ यादव,बृजकिशोर यादव और वोट के आपरेटर बाबूलाल सहनी को सुरक्षित बाहर निकाला गया। आपरेटर श्रीनगर थाना के श्रीनगर गांव का रहने वाला है।

इंस्पेक्टर डीपी चन्द्रा ने बताया कि सुरक्षित बाहर निकलने के बाद वोट सवारों ने बताया कि वे लोग पेंटूल के संवेदक के कर्मी हैं। गंडक के उस पाट में पेंटूल में रस्सी बांधने गए थे। जबतक वे लोग पेंटूल के समीप पहुंचते वहां हो रहे तेज बैकरोलिंग में मोटरवोट फंस गया। और सीधे जाकर पेंटूल में जोरों से टकराया। ादी में काफी हलचल हो गया। वे लोग नदी में कूदकर जान बचाने का प्रयास किया। आखिर कार तीनों सुरक्षित बच गए। दुर्घटनाग्रस्त मोटरवोट गंडक की धारा में डूब गयी है। मोटर वोट का कोई ट्रेस नही मिला है। एनडीआरएफ के पीएल शर्मा डीपी चंद्रा निरीक्षक अमोल कुमार उप निरीक्षक विक्रम सिंह सहायक उप निरीक्षक सेल नाथ राय की महत्वपूर्ण भूमिका रही । अधिकारियों ने बताया कि दुर्घटना पीड़ित तीनों लोग पूरी तरह सुरक्षित हैं। जिन्हें उनके परिजनों को सुपूर्द कर दिया गया। अंचल प्रशासन मोटरवोट के खोजबीन में जूटा है। प्रभारी अंचल निरीक्षक सुरेश चंद्र कपूर ने बताया कि गंडक की धारा में मोटरवोट का खोज किया जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Motorboat crashed into Gandak narrowly escaped