DA Image
23 जनवरी, 2021|4:19|IST

अगली स्टोरी

पार्षदों का अवैध को वैध मत में गिनने का आरोप

पार्षदों का अवैध को वैध मत में गिनने का आरोप

1 / 2बेतिया | कार्यालय संवाददाता नगर परिषद में सोमवार की विशेष बैठक में अविश्वास प्रस्ताव...

पार्षदों का अवैध को वैध मत में गिनने का आरोप

2 / 2बेतिया | कार्यालय संवाददाता नगर परिषद में सोमवार की विशेष बैठक में अविश्वास प्रस्ताव...

PreviousNext

बेतिया | कार्यालय संवाददाता

नगर परिषद में सोमवार की विशेष बैठक में अविश्वास प्रस्ताव को एक वोट से पारित कर दिया गया। हालांकि सभापति के समर्थक पार्षदों ने इसपर नाराजगी जताई। उन्होंने मतो की गिनती में धांधली का आरोप लगाया। मतों की गिनती के तुरंत बाद 11 पार्षदों ने उपसभापति, कयूम अंसारी, ईओ विजय कुमार उपाध्याय और जिलाधिकारी कुंदन कुमारको दोबारा गिनती के ज्ञापन सौंपा।

इसमें पार्षदों का कहना था कि अवैध मत को वैध में गिनकर मुख्य पार्षद पर अविश्वास प्रस्ताव पारित किया गया है। बहस के बाद मतविभाजन से अविश्वास प्रस्ताव पर फैसला किया गया। इसमें सिर्फ क्रॉस वाले मतों को ही वैध माना जाना था। लेकिन एक सही का टिक लगाये मतपत्र को भी वैध मानकर गिनती की गई। इस कारण मुख्य पार्षद गरिमा सिकारिया के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव एक वोट से पारित हो गया। अविश्वास के पक्ष में 19 मत पड़े। इनमें एक मत अवैध था, जिसे वैध में गिनती कर अविश्वास प्रस्ताव को पारित कर दिया गया। दोबारा गिनती के लिए सौंपे गये आवेदन पर विचार नहीं किया गया। इधर, ज्ञापन की सूचना पर एसडीएम विद्यानाथ पासवान नगर परिषद कार्यालय दोबारे पहुंचे। वे अविश्वास प्रस्ताव के बाद लौट चुके थे। दोबारा नप कार्यालय पहुंचने पर उन्होंने नियमों का हवाल देकर मांग को खारिज कर दिया।ज्ञापन सौंपने वाले पार्षदों में जरीना सिद्धिकी, उर्मिला खातुन, शहनाज खातुन, श्रीमति देवी, रोहित कुमार, शंभू शर्मा, मधु देवी, शकीला खातुन, कुमारी शीला, कैसर जहां शामिल थीं। इन पार्षदों का आरोप था कि प्रावधान के अनुसार अविश्वास पर पड़े मत की गिनती नहीं गई है। ज्ञापन सौंपने के बाद दोबारा गिनती के लिए भी विचार नहीं किया गया। यदि ऐसा किया गया होता तो अविश्वास प्रस्ताव पारित नहीं होता।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Councilors accused of counting illegal in valid vote