DA Image
23 सितम्बर, 2020|6:07|IST

अगली स्टोरी

‘बाढ़ प्रभावित परिवारों को मिले राहत

default image

अखिल भारतीय खेत एवं ग्रामीण मज़दूर सभा(खेग्रामस) और भाकपा-माले ने देशव्यापी कार्यक्रम के तहत सोमवार को मझौलिया प्रखंड मुख्यालय पर गरीबों, बाढ़ पीड़ितों, स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को लेकर प्रर्दशन किया।

भाकपा-माले नेता रीखी साह ने कहा कि सभी मज़दूरों को 10 हज़ार रुपये कोरोना लॉकडाउन भत्ता देने, सभी ग्रामीण परिवारों को राशन-रोज़गार देने, स्वयं सहायता समूह-जीविका समूह समेत तमाम तरह के छोटे लोन माफ करने, मनरेगा की मज़दूरी 500 रुपये करने और दलित-गरीब विरोधी नई शिक्षा नीति वापस लेने की मांग को लेकर प्रर्दशन किया जा रहा है। भाकपा-माले नेता जवाहर प्रसाद ने कहा कि मझौलिया अंचल के सभी पंचायतों के सभी गांव को बाढ़ग्रस्त क्षेत्र घोषित किया जाय और बाढ़ प्रभावित प्रति परिवार को 25000 रुपये बाढ़ राहत देने की गारंटी करें।

भाकपा-माले जिला नेता रविन्द्र कुमार रवि ने कहा कि नीतीश-मोदी की सरकार जनता को कोरोना महामारी के बीच मजधार में छोड़ दिया है। वही बाढ़ से गरीबों- किसानों का जीवन -जीवीका सब कुछ तबाह हो गया है। उन्होंने कहा कि सरकार जनता को किसी प्रकार का कोई सहयोग नहीं कर जनता के साथ धोखा दिया है। इस मौके पर नवी हुसैन, सुरेश शर्मा, जुनरबी देवान आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: 39 Flood affected families get relief