DA Image
25 सितम्बर, 2020|12:52|IST

अगली स्टोरी

प्रति परिवार मिले 25 हजार रुपये

default image

बेतिया एक संवाददाता ।प्रखंड मुख्यालय पर सोमवार को अखिल भारतीय खेत,ग्रामीण मजदूर सभा(खेग्रामस) व माले ने सयुक्त रूप से विभिन्न मांगों को लेकर गरीब,बाढ़ पीड़ित व स्वयं सहायता समूह के महिलाओं के साथ प्रर्दशन किया।उक्त जानकारी माले नेता संजय राम ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया।श्री राम ने कहा कि सभी मजदूरों को दस हजार रुपये कोरोना लॉकडाउन भत्ता देने, सभी ग्रामीण परिवारों को राशन-रोजगार देने,स्वयं सहायता समूह-जीविका समूह समेत तमाम तरह के छोटे लोन माफ करने,मनरेगा की मजदूरी पांच सौ रुपये करने व दलित-गरीब विरोधी नई शिक्षा नीति वापस लेने की मांग की है।अंचल सचिव रामप्रताप पासवान ने कहा कि मझौलिया अंचल के सभी पंचायतों के सभी गांव को बाढ़ग्रस्त क्षेत्र घोषित किया जाय और बाढ़ प्रभावित प्रति परिवार को पचीस हजार रुपये बाढ़ राहत देने की गारंटी करें नितिश सरकार,जनता के बीच भेदभाव करना बंद करें। मौके पर माले जिला नेता गुड्डू मिश्रा, बृजेश शुक्ल, राधाकान्त मांझी,भोज राम व इस्लाम मियां समेत कई शामिल थे।