ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार औरंगाबादऔरंगाबाद शहर के कई मोहल्ले में पानी गया पाताल में, पेज 4 लीड पैक्ज

औरंगाबाद शहर के कई मोहल्ले में पानी गया पाताल में, पेज 4 लीड पैक्ज

प्रत्येक दिन चार हजार लीटर के 40 टैंकर से हो रही पानी की आपूर्ति टो- 12 जून एयूआर 13 कैप्शन- रफीगंज में बुधवार को टैंकर से मुहल्ले में पहुंचाया जा रहा पानी औरंगाबाद,...

औरंगाबाद शहर के कई मोहल्ले में पानी गया पाताल में, पेज 4 लीड पैक्ज
हिन्दुस्तान टीम,औरंगाबादWed, 12 Jun 2024 08:45 PM
ऐप पर पढ़ें

औरंगाबाद नगर परिषद क्षेत्र में कई मोहल्ले में बोरिंग व्यवस्था पूरी तरह फेल हो गई है। ऐसे में अब नगर परिषद के स्तर से टैंकर से पानी पहुंचाया जा रहा है। पिछले एक महीने से ज्यादा समय से पानी की किल्लत बढ़ गई, जिसके बाद टैंकर से पानी पहुंचाने की व्यवस्था की गई है। पूर्व में जहां शहर में 70 से 80 फीट पर पानी मिलता था, वहीं कुछ हिस्सों में अब डेढ़ सौ फीट तक पानी मिल रहा है। इसके अलावा काफी संख्या में ऐसे वार्ड हैं, जहां तीन सौ फीट तक जलस्तर पहुंच गया है। कुछ वार्ड में गिनी चुनी जगह पर एक हजार फीट तक बोरिंग कराई गई, लेकिन पानी नहीं मिला। एक साल के अंदर जल स्तर तेजी से खिसका है और नतीजा बोरिंग ठप हो गई है। नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर 8, वार्ड नंबर- 19, वार्ड नंबर-20, 21, 22, 23, वार्ड- नंबर 9, 17, 18 में समस्या ज्यादा है। नगर परिषद के स्तर से मिली जानकारी के अनुसार प्रत्येक दिन चार हजार लीटर वाला 20 टैंकर पानी दो बार भेजा जा रहा है। इस हिसाब से 40 टैंकर पानी प्रत्येक दिन विभिन्न वार्डों में जा रहा है। इसके अलावा छोटी पानी टंकी से टेंपो के माध्यम से भी पानी की आपूर्ति हो रही है। लगभग दो लाख लीटर पानी की आपूर्ति केवल टैंकर के माध्यम से की जा रही है। पूर्व में पानी की किल्लत इतनी ज्यादा नहीं होती थी लेकिन वर्तमान समय में आधे वार्डों में यह समस्या बढ़ गई है। 33 वार्ड में से करीब 15 वार्ड में पेयजल की किल्लत ज्यादा है। नगर परिषद के मुख्य पार्षद उदय गुप्ता ने बताया कि समस्या के निराकरण के लिए प्रयास हो रहा है।

नप क्षेत्र में कराई जाएगी एक सौ बोरिंग

नगर परिषद क्षेत्र में लगभग सौ की संख्या में नई बोरिंग कराई जानी है। प्रत्येक वार्ड में तीन बोरिंग होगी, जिससे कुछ हद तक समस्या का समाधान होगा। जानकारी के अनुसार जहां जलस्तर ठीक है, वहां 120 फीट तक और जहां तीन सौ फीट तक जरूरत होगी तो उतनी बोरिंग कराई जाएगी। डीप बोरिंग कराई जाएगी ताकि पानी की समस्या नहीं हो। इससे समस्या का कुछ हद तक समाधान होगा। वर्तमान समय में बोरिंग के लिए मशीन मिलने में दिक्कत हो रही है लेकिन प्रयास किया जा रहा है कि जल्द से जल्द समस्या दूर हो। लोगों से अपील की जा रही है कि वह अपने घर के पास रेन वाटर हार्वेस्टिंग जरूर करें ताकि बरसात का पानी सीधे जमीन के अंदर जा सके जिससे जलस्तर सुधरेगा।

100 की जगह अब 125 फीट पानी

पिछले साल कई मुहल्लों में सौ फीट तक पानी था, जहां अब 125 फीट तक पानी है। इसके अलावा कुछ मुहल्लों में अचानक पानी तीन सौ फीट तक भी नहीं है जबकि पिछले साल 250 फीट तक पानी था। नावाडीह में कुछ जगहों पर एक हजार फीट तक भी पानी नहीं मिला है।

रफीगंज में टैंकर के पानी से बुझ रही लोगों की प्यास

औरंगाबाद। रफीगंज नगर पंचायत क्षेत्र के कई वार्ड में पानी के लिए हाहाकार मचा है। वार्ड संख्या 8, 9 व 11 कि यह स्थिति है कि यहां प्यास बुझाने के लिए लोगों को टैंकर से पानी उपलब्ध कराना पड़ रहा है। स्थानीय निवासी विजय कुमार, प्रदीप पाल, रामाशीष आदि ने कहा कि तीन साल पहले नगर पंचायत द्वारा बनाई गई टंकी व बोरिंग खराब हो गई है, जिसके चलते यह स्थिति उत्पन्न हुई है। नगर पंचायत उपाध्यक्ष प्रतिनिधि दिलीप कुमार उर्फ कारू ने बताया कि ज्यादा किल्लत वाली जगहों पर फिलहाल टैंकर से पानी दिया जा रहा है ताकि लोगों को परेशानी ना हो। बोरिंग भी कराई जा रही है। कार्यपालक पदाधिकारी सहाब यहैया ने बताया कि जब तक बोरिंग का काम पूरा नहीं हो जाता है तबतक किसी भी हाल में पानी की कमी नहीं होने दिया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।