DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › औरंगाबाद › देव कार्तिक छठ पूजा का होगा आयोजन, लगेगा मेला
औरंगाबाद

देव कार्तिक छठ पूजा का होगा आयोजन, लगेगा मेला

हिन्दुस्तान टीम,औरंगाबादPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:20 PM
देव कार्तिक छठ पूजा का होगा आयोजन, लगेगा मेला

देव कार्तिक छठ मेला का आयोजन नियंत्रित तरीके से होगा। सोमवार को एक संक्षिप्त बैठक आयोजित की गई। दुर्गा पूजा के बाद विस्तृत बैठक आयोजित होगी जिसमें तैयारी पर चर्चा होगी। इस बैठक में डीएम सौरभ जोरवाल और एसपी कांतेश कुमार मिश्रा के अलावा सदर एसडीओ विजयंत, एसडीपीओ गौतम शरण ओमी, डीसीएलआर अविनाश कुमार सिंह, प्रभारी डीटीओ बालमुकुंद प्रसाद उपस्थित रहे। बैठक में छठ पर्व के आयोजन पर चर्चा की गई। इस पर्व में लाखों लोग शामिल होते हैं और उस दौरान कोविड-19 गाइडलाइन के अनुपालन को लेकर भी विचार विमर्श किया गया। डीएम सौरभ जोरवाल ने बताया कि सरकार के निर्देश के अनुरूप छठ पूजा का आयोजन किया जाएगा। पंडाल में वैसे लोगों को ही अनुमति मिलेगी, जिन्होंने टीकाकरण कराया होगा। इसके अलावा निर्धारित संख्या में लोग उपस्थित रहेंगे। भीड़-भाड़ पर रोक लगाने के लिए भी कई तरह के उपाय किए जाएंगे। लोगों को पूरी तरह जागरूक किया जाएगा। छठ मेला का आयोजन होगा लेकिन नियंत्रित तरीके से ही पूरे आयोजन को अंतिम रूप दिया जाएगा। अनियंत्रित भीड़ को यहां अनुमति नहीं दी जाएगी। विदित हो कि कोविड-19 काल शुरू होने से लेकर अब तक छठ मेला का आयोजन पूरी भव्यता के साथ नहीं हो पाया है। इस बार प्रशासनिक स्तर से निर्णय लेने के बाद ही आयोजन को अनुमति दी गयी है। कार्तिक छठ मेला में पांच लाख से ज्यादा श्रद्धालु पहुंचते हैं और कई बार तो यह संख्या आठ लाख तक पहुंच जाती है। अधिकारियों ने इतनी भीड़ में कोविड-19 संक्रमण को लेकर चिंता जताई है।

---------------------------------------------------------------

वैक्सीनेशन और मास्क पर दिया जा रहा है जोर--------------------------------------

देव छठ पूजा से पहले वैक्सीनेशन कार्यक्रम को तेज करने और यहां पहुंचने वाले लोगों के लिए मास्क अनिवार्य करने पर भी जोर रहेगा। हालांकि इतनी ज्यादा भीड़ होती है कि उस भीड़ में यह सुनिश्चित करना लगभग नामुमकिन होगा। बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि जो भी आयोजन कमेटी के सदस्य होंगे, वह कम से कम टीके की प्रथम डोज ले चुके होंगे तभी इसमें शामिल होंगे। इसके अलावा बाहर से आने वाले लोगों के लिए टीकाकरण का सर्टिफिकेट अनिवार्य करने के मुद्दे पर कोई ठोस निर्णय नहीं हो सका। इस पर बाद में विचार विमर्श करने की बात कही गई। सभी लोगों के लिए मास्क अनिवार्य करने की बात पर भी राय ली गई। छठ पूजा आयोजन होने की स्थिति में विस्तृत तैयारी पर भी विचार विमर्श किया गया।

संबंधित खबरें