DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › औरंगाबाद › नई तकनीक से होगी मतगणना, किया जा रहा है प्रयोग
औरंगाबाद

नई तकनीक से होगी मतगणना, किया जा रहा है प्रयोग

हिन्दुस्तान टीम,औरंगाबादPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:20 PM
नई तकनीक से होगी मतगणना, किया जा रहा है प्रयोग

चुनाव में ऑप्टिकल कैरक्टर रिकॉग्निशन तकनीक के इस्तेमाल से तेजी से कम कर्मियों की मदद से मतगणना संपन्न हो जाएगी। औरंगाबाद जिले में पंचायत चुनाव में इस तकनीक का प्रयोग के तौर पर इस्तेमाल किया गया है और यह प्रयोग सफल रहा है। करीब 80 से अधिक मतदान केंद्रों पर वार्ड सदस्यों के चुनाव में इस तकनीक का इस्तेमाल किया गया। हालांकि चुनाव परिणाम ईवीएम से मतगणना के बाद ही जारी किया गया लेकिन प्रयोग के तहत डाले गए वोट और मतगणना के दौरान आने वाले परिणाम से मिलान करने पर यह पूरी तरह सही निकला। चार पदों के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल हुआ और सभी में यह सही पाया गया। इसको देखते हुए इसे किसी भी चरण में पूर्ण रुप से लागू किया जा सकता है। बिहार सरकार के द्वारा यह प्रयोग शुरू किया गया है जिससे मतदान के बाद मतगणना में लगने वाले समय की बचत होगी। साथ ही आर्थिक बोझ भी कम होगा। जानकारी के अनुसार काउंटिंग के दौरान इस मशीन को लगाया गया था। बताया गया कि ईवीएम में प्रत्याशी को दिए जाने पर वोट के आंकड़ों की गणना उक्त मशीन के द्वारा कर ली जाती है और वह अपने एप्लीकेशन की मदद से पोर्टल पर उसे अपलोड कर देगा और उसे जारी कर दिया जाएगा। इससे समय की बचत होगी। इस संबंध में डीआईओ प्रशांत कुमार ने बताया कि प्रयोग के तौर पर इसे लागू किया गया था और यह सफल रहा है। वरीय स्तर से मिले निर्देश के बाद इसे शत-प्रतिशत केंद्रों पर लागू किया जाएगा और चुनाव परिणाम को जारी किया जाएगा। इसमें किसी तरह के बदलाव की कोई गुंजाइश नहीं है और यह तकनीक पूरी तरह सुरक्षित है।

------------------------------------------------------------------

तकनीक के इस्तेमाल से होगी बड़ी बचत-------------------------------------------

ऑप्टिकल कैरक्टर रिकॉग्निशन (ओसीआर) के इस्तेमाल से कई तरह की बचत होगी। इससे न सिर्फ आर्थिक बोझ कम होगा बल्कि कर्मियों की तैनाती सहित अन्य तरह की परेशानियों से भी छुटकारा मिलेगा। डीआईओ ने बताया कि वर्तमान में पंचायत चुनाव के बाद मतगणना में विभिन्न विभागों से कर्मियों की तैनाती कार्मिक कोषांग में की जाती है। उसके माध्यम से कर्मियों को अलग-अलग कार्यों में लगाया जाता है। मतगणना में भी भारी संख्या में कर्मी लगाए जाते हैं। कई तरह के कार्य मशीन से हो रहे हैं। मतदान के साथ ही मतगणना की सुविधा हो जाने से सहूलियत होगी।

---------------------------------------------

इस तरह से जारी होगा परिणाम--------------------------------------------

ऑप्टिकल कैरक्टर रिकॉग्निशन के इस्तेमाल से एक सीट में परिणाम आएगा। डीआईओ ने बताया कि उदाहरण के तौर पर एक वार्ड से यदि पांच प्रत्याशी हैं तो उन पांचों प्रत्याशियों को मिलने वाले मत की सीट तैयार होगी। उस सीट में सबसे ज्यादा मत जिस प्रत्याशी को प्राप्त होंगे, उसके सामने सही का निशान बन जाएगा। कुल मत और सभी प्रत्याशियों को मिलने वाले मत की जानकारी सीट में होगी जिसे प्रिंट कर जारी किया जाएगा।

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें