ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार अररियाअनाथ और परित्यक्त बच्चों को आवासित करना प्रथम लक्ष्य

अनाथ और परित्यक्त बच्चों को आवासित करना प्रथम लक्ष्य

अररिया, संवाददाता बुधवार को जिला बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक की अध्यक्षता में...

अनाथ और परित्यक्त बच्चों को आवासित करना प्रथम लक्ष्य
हिन्दुस्तान टीम,अररियाThu, 13 Jun 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

अररिया, संवाददाता
बुधवार को जिला बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक की अध्यक्षता में विशिष्ट दत्तकग्रहण अभिकरण की जिला प्रबंध समिति की बैठक हुई। बैठक का उद्देश्य अनाथ और लावारिस अवस्था में छोड़ दिए नवजात को आवासित करने पर विचार करना था। बैठक के सदस्यों ने आह्वान किया कि जो लोग अपने नवजात को किसी कारण से रखना नहीं चाहते हैं वे नवजात को इधर उधर फेंकने के बजाए विशिष्ट दत्तक ग्रहण अभिकरण के पालना घर में छोड़ जाएं। उस व्यक्ति को गोपनीयता भी बरकरार रहेगी। ये भी आह्वान किया गया कि निसंतान माता पिता अगर किसी बच्चे को गोद लेना चाहते हैं तो वे इधर उधर भटकने के बजाए सिर्फ विशिष्ट दत्तक ग्रहण अभिकरण में अपना निबंधन कराएं और कानूनी प्रक्रिया अपनाते हुए बच्चे को से गोद लें। सहायक निदेशक द्वारा बताया गया कि पहले अररिया जिला में ऐसी सुविधा नहीं थी, लेकिन समाज कल्याण विभाग, जिला बाल संरक्षण इकाई द्वारा संचालित विशिष्ट दत्तक ग्रहण अभिकरण अब अररिया में संचालित है। साथ ही वैसे लोग जो अन्यत्र फेंके गये बच्चे को रख लेते हैं और अपने नजदीकी थाना को सूचना नहीं देते उनके ऊपर किशोर न्याय अधिनियम के तहत सजा का प्रावधान है। इसलिए किसी भी व्यक्ति को अन्यत्र फेके गये बच्चे मिलें तो वो पहले अपने नजदीकी थाना को सूचित करें। चाइल्ड लाइन पर भी सूचना दे सकते हैं। बैठक में बाल संरक्षण पदाधिकारी बबलू कुमार पाल, विकास कुमार और विशिष्ट दत्तक ग्रहण अभिकरण के प्रबंधक सहित अन्य कर्मी उपस्थित थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
Advertisement