ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार अररियानीलगाय व घोड़पड़ा के आतंक से भरगामा के किसान परेशान

नीलगाय व घोड़पड़ा के आतंक से भरगामा के किसान परेशान

भरगामा । निज संवाददाता भरगामा प्रखंड अन्तर्गत कई पंचायतों के किसान नील गाय ...

नीलगाय व घोड़पड़ा के आतंक से भरगामा के किसान परेशान
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,अररियाMon, 27 Dec 2021 04:21 AM
ऐप पर पढ़ें

भरगामा । निज संवाददाता

भरगामा प्रखंड अन्तर्गत कई पंचायतों के किसान नील गाय व घोड़पड़ा के आतंक से परेशान हैं । समर्थन मूल्य पर धान बेचने तथा डीएपी व यूरिया खाद की समस्या से जूझ रहे किसानों की परेशानी नीलगाय व घोड़पड़ा ने और बढ़ा दी है । खासकर किसी तरह अगतिया गेहूं व मक्के की फसल बोने के बाद जब कुछ किसानों के खेतों मे पौधे अंकुर कर पौधे तैयार होने लगे है । इन पौधों को क्षेत्र के कई पंचायतों मे नील गाय व घोड़पड़ा के झुंड फसलों को पैरों से रौंदकर व खाकर नष्ट कर रहे हैं । इससे किसान परेशान हो रहे हैं । अपने फसल की बचाव करने के लिए इस ठंड के मौसम मे खेतों की रखवाली कर रहे हैं । बताया जाता है कि नीलगाय व घोड़पड़ा हर साल नवंबर से फरवरी तक किसानों की फसल को बर्बाद करते है । इस वर्ष भी प्रखंड के किसान किसी तरह मक्के व गेहूं की फसल बोने के बाद जब कुछ किसानों के खेतों मे पौधे उग रहे है तो नील गायों का कहर शुरू हो गया है । खासकर प्रखंड अन्तर्गत शंकरपुर, कुशमौल , जयनगर , सीमरबनी , शेखपुरा आदि पंचायत मे दर्जनो नीलगय व घोडपाडा विचरते रहते है । जो खेतों मे लहलहा रहे फसलों पर नील गायों का झुंड अचानक टूट पड़ता है और खेतों मे लगी अंकूरित फसलों को बर्बाद कर देता है । इधर फसल बर्बाद होने से आहत किसान माथा पीट रहे है । लेकिन फसल बचाने को लेकर वे खुद को लाचार महसूस कर रहे है । किसानों की मानें तो सरकारी स्तर इसके रोकथाम की कोई व्यवस्था नही होने के चलते किसान तबाह हो रहे है । शंकरपुर गांव के किसान आशिष कुमार सौलंकी बताते है कि अगतिया गेहूं और मक्के की फसल लहलहा रही है । लेकिन रात में नील गाय व घोड़पड़ा की झुंड फसल रौंद रहा है । जयनगर वाड 5 के किसान सुनील यादव, अनमोल यादव आदि ने बताया कि विगत एक पखवारे से नील गाय का झुंड करीब दो दर्जन की संख्या मे आकर मक्के के पौधे को रौद रहे है । इन लोगों ने बताया सभी नीलगाय को भगाने पर हमला कर देते है । नीलगाय के उत्पात से परेशान शंकरपुर पंचायत के उदयानंद यादव , काली यादव , अनमोल कुवर , टुनटुन कंुवर , गजवी गांव के मो सद्दाम आदि ने बताया हमलोगों को रतजगा कर गाय को भगाने के लिए खेत मे रहना पड रहा है । इन किसानों का कहना है कि प्रशासन अपने स्तर से नीलगाय को पकड़कर जंगल मे छोड़ आये नहीं तो हम किसान अब आंदोलन करने को बाध्य होंगे । इधर भरगामा के बीडीओ ममता कुमारी ने बताया कि वन विभाग को समस्या से अवगत कराया जाएगाÜÜ

विधानसभा चुनाव 2023 के सारे अपड्टेस LIVE यहां पढ़े