ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार अररियाचार चाह से रानीगंज रेफरल अस्पताल का बंद है कैंटीन

चार चाह से रानीगंज रेफरल अस्पताल का बंद है कैंटीन

रानीगंज, एक संवाददाता। रानीगंज रेफ़रल अस्पताल का कैंटीन चार महीनों से बंद पड़ा है।...

चार चाह से रानीगंज रेफरल अस्पताल का बंद है कैंटीन
हिन्दुस्तान टीम,अररियाTue, 14 May 2024 11:46 PM
ऐप पर पढ़ें

रानीगंज, एक संवाददाता।
रानीगंज रेफ़रल अस्पताल का कैंटीन चार महीनों से बंद पड़ा है। यानी विगत महीनों से रानीगंज रेफ़रल अस्पताल के मरीजों को भोजन नहीं मिल रहा है। जबकि मरीजो को भोजन देने के लिए बकायदा केटिंग की व्यवस्था की गयी है। विगत चार महीनों से कैंटीन में भोजन नहीं मिलने से मरीजो व उनके परिजनों में आक्रोश पनपने लगा है। मंगलवार को रानीगंज रेफ़रल अस्पताल के मरीज सोनम खातून, जहबरी, सुनखा, आदि ने बताया की हमलोग गर्भवती महिला है। शाम से ही डेलिवरी करवाने के लिए आये है। लेकिन हमलोगों को खाने को कुछ नहीं दिया गया है। लाचार होकर हमलोग बाहर से खाना मंगवाकर खाने को मजबूर है। जबकि रानीगंज रेफ़रल अस्पताल में गर्भवती महिलाओं व ऐसे मरीज जो किसी कारणवश अस्पताल में भर्ती हुए है वैसे मरीजों को भोजन देने के लिए सरकारी तौर पर केटिंग की व्यवस्था की गयी है। इधर चार महीनों से लगातार केटिंग में खाने की सुविधा नहीं होने पर रानीगंज रेफ़रल अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी रोहित कुमार ने बताया कि हमने केटिंग के संचालक को केटिंग चालू करने के लिए नोटिश भेजा है। लेकिन अबतक केटिंग को चालू नहीं किया गया है। यह घोर लापरवाही है। वहीं मामले को लेकर सीएस विधानचंद्र सिंह ने बताया कि अभी चुनाव है। चार जून के बाद सब ठीक हो जायेगा। वहीं केटिंग संचालक ने बताया कि हम अभी अपनी माँ को लेकर इलाज में आये है। अभी हम कुछ नहीं कह सकते है। कुल मिलाकर देखे तो रानीगंज रेफरल अस्पताल के मरीज भूखे रहने को विवश है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।