DA Image
25 सितम्बर, 2020|12:15|IST

अगली स्टोरी

हसन हुसैन की याद में शहीद-ए-आजम कांफ्रेंस

हसन हुसैन की याद में शहीद-ए-आजम कांफ्रेंस

अररिया प्रखण्ड के किस्मत खवासपुर पंचायत वार्ड संख्या 16 अंतर्गत पलासी मोमिन टोला कर्बला मैदान में रविवार रात्रि शहीदे—ए—आजम कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। जलसे की अध्यक्षता करते मौलाना राशिद अंसारी ने कहा कि मोहर्रम की दसवीं तारीख को हसन हुसैन के शहीद होने पर मातम मनाया जाता है। रोजा रखते इबादत की जाती है। कहा कि या मोहम्मद कर्बला में लूटा बेचारा गया, आपका प्यारा नवासा सजदे में मारा गया। मुख्य अतिथि मौलाना दिलबर रसूल ने कहा कि बजमें जहां में धूम है मातम हुसैन की, यारों ए गम फिजा है शहादत हुसैन की। कहा कि इल्म के बगैर इस दुनिया में सब कुछ अधूरी है इसलिए सभी को इल्म की जानकारी होनी चाहिए। अन्य वक्ताओं में मौलाना अब्दुल माजिद नईमी, हाफिज कारी नईम्, हाफिज इजहार, हाफिज वाकिफ, हाफिज असगर आदि ने भी हसन हुसैन की शहादत पर अपनी बातें रखे। जलसा को सफल बनाने में हाजी ताहिर, युनूस अंसारी, सज्जाद अंसारी, आशिक आयान, अकबर, आशिक अंसारी, सोनू ,अमरेज, लड्डू, गुड्डू सहंसा, इमरान अंसारी, इंतेखाब, मासूम आदि लोगों का योगदान रहा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Shaheed-e-Azam Conference in memory of Hasan Hussain