DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोक शिकायत अधिनियम से मिला इंसाफ

बेहद गरीब उपभोक्ता को बिजली बोर्ड ने एक माह का बिल एक लाख 34 हजार रुपए भेज दिया। भौंचक उपभोक्ता उसे सुधरवाने बोर्ड के दफ्तर पहुंचा। बिल तो नहीं सुधरा उल्टा जुर्माना सहित बिल की राशि बढ़कर एक लाख 54 हजार रुपए हो गए। आजिज उपभोक्ता आत्महत्या तक की सोचने लगा क्योंकि वो किसी भी स्थिति में इतनी बड़ी राशि चुकाने के काबिल नहीं था। अंतत: किसी ने उसे लोक शिकायत अधिकार अधिनियम की जानकारी दी एवं जिला स्तरीय केन्द्र/ कार्यालय में अपनी शिकायत दर्ज कराने की सलाह दी। 25 मई को उपभोक्ता लोबिन लाल ने जिला स्तरीय लोक शिकायत अधिकार केन्द्र में अपनी शिकायत दर्ज करायी और आज गुरुवार को उसे इंसाफ मिल गया। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी यशस्पति मिश्र ने बिजली बोर्ड के अधिकारियों को तत्काल बिल सुधारने का निर्देश दिया। मौके पर मौजूद बोर्ड के अधिकारियों ने बिल की सुधार की। बिल 935 रुपए का निकला। उपभोक्ता लोबिन लाल पंडित पिता बिजू पंडित बहादुरगंज प्रखंड के पलासमनी पंचायत के बीरपुर कुम्हारटोली का निवासी है। फैसले से खुश लोबिन ने कहा कि इस केन्द्र की वजह से मुझे इंसाफ मिल पाया। बताते चलें कि लोक शिकायत अधिकार अधिनियम के क्रियान्वयन में किशनगंज बिहार में नजीर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Justice received from public grievance act