DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुनाहों की माफी में गुजरी सारी रात

शब-ए-बारात पर्व को मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में शनिवार की सारी रात काफी उत्साह था। फजीलत की इस रात को बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने सारी रात गुनाहों की माफी में गुजार दी। शहर से लेकर गांव के मस्जिदों, कब्रगाहों और अपने घरों में पूरी रात कुरान की तिलावत, नमाज आदा करते रहे और रो-रोकर अपनी गुनाहों की माफी के लिए खुदा से दरखास्त करते रहे। इस मौके पर अलग-अलग स्थानों पर जलसा का भी आयोजन किया गया था।

लाइटिंग की थी बेहतर व्यवस्था: शहर के खलीलाबाद, रजोखर, बसैटी, मोहनी, दुर्गापुर, गड़िया सहित विभिन्न कब्रगाहों पर रातभर मुस्लिम समुदाय के लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। कब्रगाहों पर जनरेटर लाइट की व्यवस्था की गई थी। कुछ लोग अपने पूर्वजों के कब्र के समीप मोमबती व अगबरत्ती जलाकर उनके लिए दुआए मगफेरत मांगे।

वहीं बसैटी गांव के एैनुल मियां ने अपने बेटे के कब्र के समीप मच्छरदानी लगाकर रातभर कुरान की तिलावत करते रहे और रो रोकर अपने मृत बेटे की बख्शीश के लिए अल्लाह से गिड़गिड़ाते रहे। मस्जिदों में भी बड़ी संख्या में लोग कुरान कि तिलावत व नमाज पढ़ने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी थी।

जिसने सोया उसने खोया: मौलाना नबीहुलहसन ने बताया कि मुस्लिम कलैंडर के शाबान माह की चौदवीं की रात शबेबरात गुनाओं से छुटकारे की रात है। यह बहुत फजीलत वाली रात है। अल्लाह ताला से सच्चे मन से मांगने वालों की सारी जायज मुराद पूरी होती है और सारी गुनाहों को माफ कर दिए जाते हैं। खुदा का फरमान है। आज की रात जो भी उनसे मांगेगा उसकी सारी मुरादें पूरी कर देंगे। जो इस रात को गफलत में गुजार दी वह अल्लाह के रहमतों से महरूम रह गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gujahan s forgiveness last night