DA Image
22 सितम्बर, 2020|1:15|IST

अगली स्टोरी

सिकटी नूना नदी में पानी घटने से बाढ़ का खतरा टला

default image

प्रखंड के नेपाल से निकली पहाडी नदी नूना के जलस्तर में रविवार से ही काफी गिरावट आयी है। इससे बाढ़ का खतरा टल गया है। नूना एक उथर नदी है जिसके पास जल भ्ंाडारण की क्षमता शून्य है जो भी पानी नेपाल से इसे मिलता है उन सभी पानी को नूना भारतीय क्षेत्र के नदी किनारे गांव घर में परोस डालता है। फिलहाल सबसे ज्यादा परेशानी नूना नदी के कारण पड़रिया पंचायत वालों को झेलनी पड़ी है जहां गत दिनों आयी बाढ़ से चार-जगह तटबंध टूटी है। इसमें पड़रिया वार्ड नंम्बर 9 जमील वार्ड सदस्य घर के पास, वार्ड नंम्बर 6 मुखिया जी घर के पास बांसबाडी में, वार्ड नंम्बर 2 घोड़ा चौक के पास एवं वार्ड नंम्बर तीन सिंघिया में इन चारो जगह इस बार तटबंध टूटी है जिस जगह मरम्मति कार्य भी संतोषप्रद नहीं था। तटबंध बनाने की खानापूरी की गयी थी। इलाके के लोगो का कहना है कि पहले से ही लोगों को तटबंध टूट जाने का भय लगा हुआ था जो बाढ़ का पहली एक झोंका भी नही झेल सका। वही दहगांव भी इस बीमारी से ग्रसित था। लेकिन तटबंध निर्माण पर वहां के लोग सजग रहे और मजबूत तटबंध बनवाया जो नहीं टूट सका और लोगों को काफी राहत मिली, वहीं पड़रिया में लोगों को बाढ़ आने का भय सताते रहता है। यहां के नूना नदी की बाढ़ एक अतिथि के समान है कब आ जाय कहना मुश्किल है जिसके लिए लोग हमेशा तैयार रहते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Flood risk averted due to receding water in the river Sikti