DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  अररिया  ›  खांसी, सर्दी व बुखार को नजर अंदाज न करें, हो सकता है खतरनाक

अररियाखांसी, सर्दी व बुखार को नजर अंदाज न करें, हो सकता है खतरनाक

हिन्दुस्तान टीम,अररियाPublished By: Newswrap
Wed, 12 May 2021 10:43 PM
खांसी, सर्दी व बुखार को नजर अंदाज न करें, हो सकता है खतरनाक

अररिया। संवाददाता

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर अधिक घातक साबित हो रही है। ऐसे में मामूली असावधानी भी महंगी पड़ सकती है। लिहाजा ये जरूरी है कि लोग अपने व्यवहार में जरूरी बदलाव करें। क्योंकि इस महामारी के समय खुद और परिवार को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती है। ऐसी बातें सीएस डॉ. एमपी गुप्ता ने कहीं। उन्होंने कहा कि सबसे जरूरी ये है कि संक्रमण से सुरक्षा के उपायों पर शतप्रतिशत अमल करें। मास्क पहनने का तरीका सही होना चाहिये। आपसी मेलजोल के वक्त कम से कम दो गज की दूरी होनी चाहिये। बार बार अपने हाथों की सफाई साबुन या सेनिटाइजर से करते रहना चाहिये। उन्होंने आगे कहा कि महामारी के इस दौर में सोशल मीडियाके माध्यमों से कोरोना को लेकर भ्रामक जानकारियां भी परोसी जा रही है। ऐसी जानकारियों से दूर रहना होगा। सिविल सर्जन अररिया डॉ एमपी गुप्ता के मुताबिक गलत जानकारियां संक्रमण से बचाव के बजाए गंभीर मुसीबतों में डाल सकती हैं। रोग संबंधी किसी भी तरह का लक्षण दिखने पर तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना जरूरी है। इसी क्रम में उन्होंने कहा कि इस समय खांसी व बुखार को सामान्य नहीं माना जाना चाहिये। परिवार में अगर किसी को भी खांसी, बुखार, गले में खराश, सांस लेने मे तकलीफ, सिरदर्द, डायरिया आदि की शिकायत हो तो सबसे पहले संबंधित व्यक्ति की जांच करानी जरूरी है। सिविल सर्जन ने कहा ऐसे संदिग्ध व्यक्ति को अलग कमरे में कर देना जरूरी है। जांच रिपोर्ट आने तक व्यक्ति को अलग कमरे में में ही रहना चाहिये। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर चिकित्सकीय सलाह के अनुरूप इलाज शुरू हो जाना चाहिये। रोगी व्यक्ति के शरीर का तापमान व ऑक्सीजन के स्तर की लगातार जांच होनी चाहिये। बीमार व्यक्ति को ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करने के लिये प्रेरित व प्रोत्साहित किया जाना चाहिये। ताकि शरीर में पानी की कोई कमी न हो।

आपात स्थिति में नियंत्रण कक्ष से करें संपर्क: अररिया। सिविल सर्जन डॉ. एमपी गुप्ता ने कहा कि डॉक्टर नहीं मिलने पर आपात स्थिति में जिला स्तर पर संचालित चिकित्सकीय परामर्श सह नियंत्रण कक्ष के संपर्क संख्या 18003456617, राष्ट्रीय हेल्प लाईन नंबर 1075 व स्वास्थ्य विभाग से संबंद्ध अग्रणी संस्था पिरामल फाउंडेशन द्वारा जारी हेल्पलाईन नंबर 7815953775 पर सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक संपर्क किया जा सकता है।

संबंधित खबरें