DA Image
24 नवंबर, 2020|11:24|IST

अगली स्टोरी

दादी प्रकाशमणि ने पूरे विश्व को ज्ञान से किया प्रकाशित

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय अररिया आरएस में आयोजित एक सादे कार्यक्रम में दादी प्रकाशमणि की स्मृति दिवस मनाई गई। कार्यक्रम की अगुवाई राजयोगिनी बीके उर्मिला बहन एवं बैंककर्मी संजय गुप्ता ने किया। बीके उर्मिला बहन ने बताया कि 1936 में ईश्वरीय विश्वविद्यालय की स्थापना पाकिस्तान के सिंध हैदराबाद में हुई थी। 18 जनवरी 1969 को ब्रह्मा बाबा के बाद इस संस्था की बागडोर दादी प्रकाशमणि हाथों में दिया। अपने नाम के अनुरूप उन्होंने सारे विश्व को ज्ञान से प्रकाशित किया। बीके उर्मिला बहन ने कहा कि बाबा के अव्यक्त होने के पश्चात 1969 से आपने जिस प्रकार यज्ञ की वृद्धि की, मातृ स्नेह से सबका पालन किया उसे कोई नहीं भूला सकता। बीके जयंती बहन ने कहा कि उनके नेतृत्व दादी की अगुवाई में 1972 में पहली बार विश्व सेवा आरंभ हुई। आज 157 देशों में इसका संदेश जा चुका है बीके अन्नू बहन ने अपने उद्बोधन में कहा कि प्रकाश मणि अर्थात इस मणि का प्रकाश चारों तरफ फैला भी और भी फैलता जाएगा। यह एक ऐसी मणि है जिसका प्रकाश कभी लुप्त नहीं हो सकता है। नेशनल मेडल मदर टेरेसा डॉक्टर ए पी जो अब्दुल कलाम इन से काफी प्रभावित थे। वे कई सम्मानों से सम्मानित हो चुकी हैं। मौके पर लाडली बहन, विजेन पंडित, राजमुनि साह, शंभू सिंह, कौशल्या देवी, माया चतुर्वेदी, भावना बहन, संजय साह, शर्मिला गुप्ता, शकुंतला बहन, प्रभावती साह, पिंटू शाह आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Dadi Prakashmani published the whole world with knowledge