Bihar flood 2017: Dead body flown in river in front of police - शर्मनाक: देखिए, बिहार में पुलिस के सामने बाढ़ के पानी में फेंके जा रहे हैं शव! 1 DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शर्मनाक: देखिए, बिहार में पुलिस के सामने बाढ़ के पानी में फेंके जा रहे हैं शव!

शर्मनाक:देखिए, बिहार में पुलिस के सामने बाढ़ के पानी में फेंके जा रहे हैं शव!
शर्मनाक:देखिए, बिहार में पुलिस के सामने बाढ़ के पानी में फेंके जा रहे हैं शव!

जोगबनी पुलिस ने मानवीय मूल्यों को झकझोर कर रख दिया है। जोगबनी में जहाँ एक ओर ठेला पर रख कर शवों को कब्रिस्तान ले जाया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर जोगबनी पुलिस की मौजूदगी में लाशों को परमान नदी में फेंकने का सिलसिला जारी है। ट्रैक्टर पर लाशों को लोड कर मीरगंज पुल से नदी में बहाया जा रहा है। पुलिस के इस कृत्य से मानवता शर्मशार हो गई है। 

पूछने पर पुलिस मानने को तैयार नहीं है मगर तस्वीरें कभी झूठ नहीं बोलती। इस मामले में फारबिसगंज डीएसपी अजित कुमार सिंह ने अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है। दन्होंने कहा कि ऐसा करने का सवाल ही पैदा नहीं होता। यह मामला सुर्खियों में है और जोगबनी पुलिस के कृत्य पर सवाल उठाया जा रहा है।

लाशों का डस्टबिन बनता जा रहा है फारबिसगंज-जोगबनी क्षेत्र
लाशों का डस्टबिन बनता जा रहा है फारबिसगंज-जोगबनी क्षेत्र

फारबिसगंज-जोगबनी में आई प्रलयंकारी बाढ़ के बाद ये दोनों इलाके लाशों का डस्टबीन बनते जा रहे हैं। अबतक जोगबनी में आधिकारिक पुष्टि के तहत 17 लाशें मिल चुकी हैं, जिनमें से 4 शव नेपाल के रहने वाले लोगों का है।

फारबिसगंज के कुछ पंचायतों में तीन दिन पूर्व तक एक दर्जन लाशों की पुष्टि हुई थी। मंगलवार को स्थानीय सुभाष चौक के समीप पानी में दो लाशें तैरती रहीं। क कि शिनाख्त हुई जिसका ग्रामीणों ने दाह संस्कार कर दिया मगर दूसरे लाश को बुधवार को निकाला गया। घोडाघाट निवासी अशोक झा ने बसबिट्टी में कई लाशें होने की जानकारी स्थानीय पुलिस को दी। हालांकि इस मामले में अररिया के डीएम ने महज 20 मौतों की पुष्टि की है। डीएम हिमांशु शर्मा ने बताया कि अभी तक 20 मौतों की पुष्टि हुई है और आंकड़ा लिया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar flood 2017: Dead body flown in river in front of police