DA Image
22 नवंबर, 2020|12:56|IST

अगली स्टोरी

अररिया: मिथिला महोत्सव से भारत-नेपाल के रिश्तों को मिलती है मजबूती: आपदा मंत्री

अररिया: मिथिला महोत्सव से भारत-नेपाल के रिश्तों को मिलती है मजबूती: आपदा मंत्री

1 / 2भारत-नेपाल सीमा पर अवस्थित जोगबनी के ऐतिहासिक हाई स्कूल मैदान में शनिवार को तीसरा अन्तर्राष्ट्रीय मिथिला महोत्सव देर रात रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ सम्पन हुई। इससे पूर्व कार्यक्रम का विधिवत...

अररिया: मिथिला महोत्सव से भारत-नेपाल के रिश्तों को मिलती है मजबूती: आपदा मंत्री

2 / 2भारत-नेपाल सीमा पर अवस्थित जोगबनी के ऐतिहासिक हाई स्कूल मैदान में शनिवार को तीसरा अन्तर्राष्ट्रीय मिथिला महोत्सव देर रात रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ सम्पन हुई। इससे पूर्व कार्यक्रम का विधिवत...

PreviousNext

भारत-नेपाल सीमा पर अवस्थित जोगबनी के ऐतिहासिक हाई स्कूल मैदान में शनिवार को तीसरा अन्तर्राष्ट्रीय मिथिला महोत्सव देर रात रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ सम्पन हुई। इससे पूर्व कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन मुख्य अतिथि सह बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय सहित अतिथियों ने विद्यापति के चित्र पर पुष्प व दीप प्रज्जवलित कर किया।

इस मौके पर बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय कहा कि इस तरह का आयोजन भारत—नेपाल के रिश्तों को मजबूत करता करता है। उन्होंने आयोजक की प्रशंसा करते हुए आगामी दिनों में भी इस तरह का कार्यक्रम करते रहने का सुझाव देते हुए शुभकामना भी दी। वहीं स्थानीय सांसद प्रदीप कुमार सिंह ने विद्यापति को मिथिला का शेक्सपियर बताते हुए उनके जीवनी पर प्रकाश डाला। सांसद ने कहा यह क्षेत्र मिथिला है इसमें किसी से सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी जी द्वारा मिथिला को अष्टम सूची रखवाने का योगदान की चर्चा की। एनडीए नेता अजय कुमार झा भारत-नेपाल के बीच बेटी-रोटी का संबंध का उल्लेख करते हुए कार्यक्रम को ऐतिहासिक बताया।

नेपाली कांग्रेस के नेता राजेश गुप्ता ने नेपाल—भारत के संबंध पर चर्चा की। कार्यक्रम की अध्यक्षता अमरनाथ झा ने की। जबकि संचालन कार्यक्रम के कार्यकारी संयोजक माला मिश्रा, राधा मंडल व प्रकाश प्रेमी ने संयुक्त रूप से किया। इस मौके पर भारत-नेपाल के मिथिला पब्लिक स्कूल, गौतम बुद्ध मेमोरियल स्कूल, मदर मेरी स्कूल के बच्चों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति दी। जबकि प्रतिभा झा, नीतिशा कर्ण, बितिसा कर्ण आदि ने मैथिली गीत पर एक से बढ़कर एक नृत्य प्रस्तुत कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। वहीं मुम्बई से आये गायक मुकुंद मिश्र, वीरपुर से कोशी कोकिला के नाम से चर्चित गायिका स्नेहा झा, दरभंगा से आयी गायिका रचना झा, विराटनगर के गायक बिरेन्द्र झा ने भी सुंदर प्रस्तुति देकर माहौल को और खुशनुमा कर दिया। स्वागत मंतव्य धन्यवाद ज्ञापन कार्यक्रम के संयोजक ने दिया । इस मौके पर सुपौल, अररिया, कटिहार , सहरसा, दरभंगा, मधुबनी व नेपाल के मोरंग, झापा, सुनसरी,सप्तरी व अन्य जिला से सैकड़ो लोग पहुचे थे। स्वागत मंतव्य संयोजक ने देते हुए पिछले एक दशक से नेपाल-भारत मैत्री संबंध पर किये कार्यों पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस मौके पर नेपाल से आये पूर्व सांसद पवन कुमार सारडा, नेपाली कांग्रेस के युवा नेता व समाजसेवी राजेश गुप्ता, मोरंग व्यापार संघ के पूर्व अध्यक्ष महेश जाजू, समाजसेवी व वरिष्ठ उद्योगपति नंदकिशोर राठी, आभा अनुपमा, बिभा दास, पंकज वर्मा, रचना राठी तथा मैथिली सेवा समिति अध्यक्ष डॉ. एसएन झा आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Araria Mithila Festival strengthens India-Nepal relations Disaster Minister