DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › अररिया › मनरेगा योजना का कोड बदलकर राशि निकासी का आरोप
अररिया

मनरेगा योजना का कोड बदलकर राशि निकासी का आरोप

हिन्दुस्तान टीम,अररियाPublished By: Newswrap
Sat, 26 Jun 2021 10:01 PM
मनरेगा योजना का कोड बदलकर राशि निकासी का आरोप

रानीगंज। एक संवाददाता

शनिवार शाम प्रखण्ड के पहुंसरा पंचायत स्थित वार्ड संख्या 13 के दर्जनों मजदूर मुख्यालय स्थित मनरेगा कार्यालय परिसर में प्रदर्शन किया। ये मजदूर पहुंसरा से चलकर रानीगंज प्रखंड परिसर पहुंचे थे। मनरेगा कार्यालय गेट के समीप प्रदर्शन के बाद मजदूरों ने कार्यालय में आवेदन दिया। प्रदर्शन कर रहे मजदूर फूलन ऋषिदेव, राजू ऋषिदेव, भोली ऋषिदेव, दिनेश ऋषिदेव, सुशीला देवी, जयमाला देवी, वकील ऋषिदेव, पृथ्वी ऋषिदेव, उर्मिला देवी आदि ने बताया कि डेढ़-दो साल पहले वार्ड संख्या 13 की वार्ड सदस्य रीना देवी के कहने पर मध्य विद्यालय सिमराहा रेहका टोला में मनरेगा योजना के तहत मिट्टी भराई का काम किये थे। हम मजदूरों का मैट फूलन ऋषिदेव था। मिट्टी भराई के काम का स्थानीय मुखिया किरण देवी, उनके पति प्रमोद ऋषिदेव और पीआरएस बराबर योजना स्थल पर आकर निरीक्षण करते थे। लेकिन मजदूरी का पैसा मांगने पर जल्द भुगतान का आश्वासन देते आ रहे थे। इस बीच शुक्रवार को मैट फूलन ऋषिदेव जब मनरेगा कार्यालय गया तब पता चला कि हमलोगों की मजदूरी का सारा पैसा फर्जी मास्टररोल बनाकर सजिशकर राशि का उठाव कर लिया। आरोप लगाया कि निश्चित रूप से इसमें मुखिया किरण देवी, मुखिया पति प्रमोद ऋषिदेव और पीआरएस सुरेश दास का हाथ है। इन लोगों ने हम मजदूरों का मजदूरी का सारा पैसा दूसरे के खाते में भेज दिया गया। मजदूरों ने बताया कि कई ऐसे लोगों के खाते में पैसा भेजा गया है जो मजदूर नहीं है। हम मजदूरों का जबतक पैसा नहीं मिलेगा शांत नहीं रहेंगे। आंदोलन जारी रहेगा। मुखिया किरण देवी व उनके पति प्रमोद ऋषिदेव ने आरोप से इंकार किया है।

क्या है पूरा मामला: पहुंसरा पंचायत में मध्य विद्यालय सिमराहा रेहका के प्रांगण में मनरेगा योजना के तहत मिट्टी भराई का काम साल 2018-19 में किया गया था। इस योजना का कार्य स्थल पर लगे बोर्ड में योजना की संख्या 20291909 दर्शाया गया है। जबकि मनरेगा द्वारा योजना संख्या 20291989 पर राशि की निकासी नेट पर दर्शाया गया है। मजदूरों ने आरोप लगाया कि यहां पर जीरो के स्थान पर आठ देकर पूरे योजना को बदलकर राशि की हेराफेरी कर लिया गया है। योजना स्थल पर लगे बोर्ड में दो लाख आठ हजार एक सौ चालीस रुपये की प्राक्कलित राशि लिखी है। जबकि नेट पर योजना संख्या 20291989 में 23 जून को 43526 और 29768 रुपये की राशि भेजी गयी है। अब बड़ा सवाल यह है कि ये दोनों राशि किसके खाते में भेजी गयी है। इधर मामले को पीआरएस सुरेश दास ने बताया कि जिस मजदूरों ने काम किया है उनके खाते में राशि भेजी गई है। वहीं मनरेगा पीओ नवीन कुमार ने बताया कि मजदूरों का पैसा बांकी था इसलिए मजदूर प्रदर्शन कर रहे थे। सभी मजदूरों के खाते में सोमवार को राशि भेज दिया जायेगा।

संबंधित खबरें