DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  अररिया  ›  डीजल में 90 तो पेट्रोल में 25 फीसदी की हुई गिरावट

अररियाडीजल में 90 तो पेट्रोल में 25 फीसदी की हुई गिरावट

हिन्दुस्तान टीम,अररियाPublished By: Newswrap
Wed, 12 May 2021 10:21 PM
डीजल में 90 तो पेट्रोल में 25 फीसदी की हुई गिरावट

फारबिसगंज । (नि. सं.)

कोरोना संक्रमण का कहर पेट्रोल पंप पर सबसे ज्यादा देखा जा रहा है। वाहनों के आवागमन में भारी गिरावट, खर्च में कटौती नहीं होने मगर तेलों की बिक्री काफी प्रभावित होने से पेट्रोल पंप मालिकों की आर्थिक स्थिति काफी दयनीय हो गई है । अररिया जिले में वाहनों के आवागमन में गिरावट को लेकर जहां डीजल की बिक्री में 90 फीसदी की गिरावट आई है, वहीं पेट्रोल बिक्री करीब 25 फीसदी प्रभावित हुई है । शहर से लेकर गांव तक में दोपहिया वाहन, एंबुलेंस सेवा आदि को लेकर डीजल की तुलना में पेट्रोल में कम गिरावट देखी जा रही है। कहते हैं अररिया जिले में कुल 4 कंपनियां यथा इंडियन ऑयल, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम एवं रिलायंस के कुल 05 पेट्रोल पंप संचालित है। इसमें 25 हाइवे पर तथा शेष बाजार एवं ग्रामीण क्षेत्रों में है। पेट्रोल पंप मालिकों के अनुसार पेट्रोल पंप का प्रतिदिन का एवरेज डीजल की बिक्री 05 हजार लीटर यानी कुल पांच लाख लीटर प्रतिदिन की बिक्री में 90 फ़ीसदी की गिरावट आई है और औसतन बिक्री जिले का प्रतिदिन 50 हजार लीटर पर सिमट गया है । वहीं पेट्रोल में प्रतिदिन डेढ़ लाख लीटर की बिक्री होती थी जो औसतन 40 हजार लीटर पर सिमट गया है। प्रतिदिन 1.10 लाख लीटर की बिक्त्री बाधित हो गयी है। बुधवार को डीजल की कीमत जहां 89.45 रुपये बताया जाता है वही प्लेन पेट्रोल की कीमत 96.04 रुपया प्रति लीटर तथा अतिरिक्त प्रीमियम का कीमत एक सौ रूपया 12 पैसे प्रति लीटर बताया जाता है ।

इस संबंध में स्थानीय डीएस हाइवे सर्विस के मालिक सुधीर कुमार सिंह और ताहिर करीमन फ्यूल सेंटर के मालिक इजहार अंसारी ने बताया कि कोरोना काल मे वाहनों के आवागमन में गिरावट को लेकर सबसे ज्यादा पेट्रोल पंप प्रभावित हुई है। इन लोगों ने बताया कि डीजल की बिक्री करीब 90 फीसदी एवं पेट्रोल की बिक्री करीब 75 फीसदी से ज्यादा गिरावट होने के बाद भी न तो स्टाफ खर्च में कटौती हो रही है, ना बिजली बिल में कमी आई है, मेंटेनेंस खर्च बरकरार है ,बैंक इंटरेस्ट जारी है तथा टैक्सेशन भी प्रभावी है । ऐसे में पेट्रोल पंप मालिकों की आर्थिक हालत काफी दयनीय हो गई है।

संबंधित खबरें