DA Image
3 दिसंबर, 2020|12:26|IST

अगली स्टोरी

448 शिक्षक होंगे निलंबित

default image

पांच मार्च से जिले के दो केन्द्रों पर शुरू मैट्रिक उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार करने वाले शिक्षकों के विरूद्ध बड़े पैमाने पर कार्रवाई की गई है। शिक्षा विभाग ने जिले के वैसे 448 शिक्षकों को निलंबित करने के लिए नियोजन इकाई को पत्र लिखा है जो मूल्यांकन कार्य के लिए अपने-अपने केन्द्र पर योगदान नहीं किये हंै।

बताया गया कि शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने मूल्यांकन केन्द्रों का दौरा कर कार्य का जायजा लिया और योगदान नहीं करने वाले शिक्षकों के निलंबन की अनुशंसा नियोजन इकाई से की है। डीईओ अशोक कुमार मिश्रा ने बताया कि मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार करना विभागीय निर्देश का उल्लंघन है। मैट्रिक परीक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य की सूचना पूर्व ही जारी की गई थी। शिक्षकों का जानबूझ कर ऐन वक्त पर हड़ताल व कार्य से अलग रहना कर्तव्य के प्रति घोर लापरवाही है।

जिसे शिक्षा विभाग व परीक्षा समिति ने गंभीरता से लेते हुए मूल्यांकन कार्य से अलग रहने वाले शिक्षकों के खिलाफ कार्यवाई की जा रही है।

जानकारी के अनुसार जिला परिषद अररिया,नगर परिषद अररिया, फारबिसगंज व नगर पंचायत जोगबनी के कार्यपालक पदाधिकारी को डीईओ ने बुधवार को शिक्षकों की सूची के साथ पत्र लिखकर योगदान नहीं करने वाले शिक्षकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए निलंबित करने की अनुशंसा की है। बताया गया कि मैट्रिक परीक्षा 2020 के उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य में योगदान नहीं करने वाले जिला परिषद के 372 शिक्षकों को निलंबित करने की अनुशंसा करते हुए डीडीसी सह मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी जिला परिषद अररिया को पत्र लिखा गया है ।वहीं नगर परिषद अररिया की 21 फारबिसगंज नगर परिषद के 43 व जोगबनी नगर पंचायत के 12 शिक्षकों को निलंबित करने के लिए संबंधित कार्यपालक पदाधिकारी को डीईओ ने पत्र लिखा गया है।इधर इस कार्रवाई के बाद हड़ताली शिक्षकों में हड़कंप मच गया है।