ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार अररियाजीविका की 247 महिलाओं को बकरी पालन के लिए मिलेगा शेड

जीविका की 247 महिलाओं को बकरी पालन के लिए मिलेगा शेड

सिकटी । एक संवाददाता सिकटी प्रखंड के सभी 14 पंचायतों में जीविका से जुड़े 247

जीविका की 247 महिलाओं को बकरी पालन के लिए मिलेगा शेड
हिन्दुस्तान टीम,अररियाThu, 13 Jun 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

सिकटी । एक संवाददाता
सिकटी प्रखंड के सभी 14 पंचायतों में जीविका से जुड़े 247 महिलाओं का मनरेगा के तहत बकरी शेड का निर्माण किया जाना है। इसमें 72 जीविका से जुड़े महिलाओं का बकरी शेड का निर्माण किया गया है। सिकटी प्रखंड में 242 यूनिट पौधारोपण करने का लक्ष्य दिया गया है। यह जानकारी देते हुए मनरेगा पीओ संजीव कुमार सुमन ने बताया कि सतत् जीविकोपार्जन योजना के तहत प्रखंड में कुल लाभार्थी की संख्या 247 है, इसमें 72 परिवारों को बकरी पालन से जोड़ा गया है। इनमें 72 लाभुक ग्रामीण क्षेत्र के है। उनके लिए शेड मनरेगा से बनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सभी पीआरएस को एक सप्ताह में शेष बकरी शेड को बनाने का लक्ष्य दिया तथा सभी पीआरएस को 242 यूनिट पौधारोपण के लिए भूमि का चयन करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि हाशिये पर खड़े लोगों को रोजगार के लिए सतत् जीविकोपार्जन योजना में वैसे अत्यंत निर्धन परिवार शामिल किए जाते हैं जो हाशिये पर होते हैं। उनकी जिंदगी बद से बदतर हो चुकी होती है। ऐसे में सरकार की महत्वाकांक्षी योजना के रूप में सतत जीविकोपार्जन योजना की शुरुआत की गई है। यह योजना शत-प्रतिशत अनुदानित है एवं इसमें परिवार का क्षमतावर्द्धन कर जीविकोपार्जन के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। उन्हें सरकार द्वारा तीन किस्तों में एक से दो लाख की राशि उपलब्ध कराई जाती है। ऐसे में लाभुक रुचि के अनुसार बकरी पालन करते हैं। उसके लिए शेड बनाने को मनरेगा में आवेदन दिया जाता है। मनरेगा का कार्य इस क्षेत्र में संतोषप्रद पाया गया एवं शेष शेड को अविलंब बनाने का निर्देश दिया गया।उन्होंने बताया कि सभी कर्मी से पौधरोपण के लिए लक्ष्य मांग गया है पीओ ने बताया कि इस योजना के तहत वैसे लाभुक जिनके पास करीब 15 कट्ठा जमीन हो तथा वे 200 पौधे लगा सकें और उसकी देख रेख अगले 5 वर्ष तक कर सकें, को योग्य माना जाता है। इसके लिए उस जमीन पर एक चापाकल तथा 1960 रुपये प्रति माह देय होगा। वैसे आवेदक इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। हालांकि योजना के लाभ के लिए सभी पौधे जीवित होनी चाहिए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।