Thursday, January 27, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार आरावीकेएसयू : कुछ विषयों की मेरिट लिस्ट नहीं होगी जारी

वीकेएसयू : कुछ विषयों की मेरिट लिस्ट नहीं होगी जारी

हिन्दुस्तान टीम,आराNewswrap
Tue, 30 Nov 2021 07:41 PM
वीकेएसयू : कुछ विषयों की मेरिट लिस्ट नहीं होगी जारी

पीजी एडमिशन

पीजी सत्र 2020-22 में एडमिशन जल्द शुरू करेगा विवि प्रशासन

नामांकन समिति की बैठक में मेरिट लिस्ट जारी करने पर लगी मुहर

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय का फाइल फोटो

आरा। निज प्रतिनिधि

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में पीजी सत्र 2020-22 में एडमिशन जल्द शुरू करेगा। इसी सप्ताह पीजी एडमिशन को ले मेरिट लिस्ट जारी की जायेगी। गत दिन कुलपति की अध्यक्षता में हुई नामांकन समिति की बैठक में मेरिट लिस्ट जारी करने पर मुहर लग गयी है। हालांकि विवि प्रशासन कई विषयों की मेरिट लिस्ट जारी नहीं करेगा। स्नातक पार्ट थर्ड सत्र 2017-20 के ऐसे विद्यार्थी जिन्हें तीन बार अलग-अलग अंक पत्र मिला। बाद में फाइनल अंक पत्र मिलने के बाद भी उनके द्वारा अपने विषय का अंक पत्र पीजी एडमिशन को ले अपलोड नहीं किया गया है, उस विषय की मेरिट नहीं जारी होगी। वैसे विषय की लिस्ट जारी होने में अभी और समय लगेगा। बता दें कि स्नातक पार्ट थर्ड के रिजल्ट जारी होने के बाद वैसे विद्यार्थी जिनका अंक बदल गया है, उन्हें अंक पत्र अपलोड करने को कहा गया था। चार हजार विद्यार्थियों में सिर्फ ढाई हजार ही स्नातक का अंक पत्र अपलोड कर पाए हैं। जो विद्यार्थी शुरुआत में स्नातक के मिले अंक पत्र में पास थे, उनके द्वारा पीजी का आवेदन किया गया। इसके बाद कुछ विषय के विद्यार्थियों को नए अंक पत्र फेल कर दिया गया। मनोविज्ञान और गृहविज्ञान विषय में इसकी संख्या अधिक है। इस कारण इन विषयों की मेरिट नहीं जारी कर अन्य विषयों का मेरिट जारी किये जाने की योजना बनायीं जा रही है, ताकि कम से एडमिशन प्रक्रिया शुरू हो सके। बतादें कि पीजी एडमिशन दिसंबर माह तक भी पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। छात्र कल्याण अध्यक्ष प्रो सिधेश्वर नारायण सिंह ने बताया कि कुछ विषयों की मेरिट नहीं जारी होगी। ऐसे विषय जिसमें आवेदन अधिक है उनका मेरिट जारी होगा। बतादें कि शुरुआत में पांच विषयों में 15 से 16 हजार के करीब विद्यार्थियों का रिजल्ट बदल गया था। कंप्यूटर सेंटर की ओर से पहले फर्स्ट डिवीजन और बाद में सेकंड डिवीजन एवं फेल का अंक पत्र थमा दिया गया है। शुरुआत में मिले कंप्यूटराइज्ड अंक पत्र से ऐसे विद्यार्थियों ने पीजी, बीएड सहित अन्य जगह दाखिले के लिए आवेदन भी कर दिया है। अब दूसरी बार मिले अंक पत्र में फेल और डिविजन चेंज के बाद ऐसे छात्र एडमिशन से वंचित हो रहे हैं। क्योंकि, पहले के अंक पत्र से जो विद्यार्थी फर्स्ट श्रेणी से पास थे, वे अब सेकंड हो गये है। जबकि कुछ तो फेल भी हो चुके हैं। वहीं सैकड़ों विद्यार्थियों के अंक भी बदल गये हैं। हालांकि मनोविज्ञान और होम साइंस में संख्या अधिक है।

epaper

संबंधित खबरें