DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  आरा  ›  उर्वरक की कालाबाजारी पर रोक के लिए बना छापेमारी दल
आरा

उर्वरक की कालाबाजारी पर रोक के लिए बना छापेमारी दल

हिन्दुस्तान टीम,आराPublished By: Newswrap
Fri, 18 Jun 2021 11:00 PM
उर्वरक की कालाबाजारी पर रोक के लिए बना छापेमारी दल

आरा। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि

भोजपुर में किसानों को उर्वरक की उपलब्धता और कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए शुक्रवार को डीडीसी हरि नारायण पासवान की अध्यक्षता में जिला स्तरीय उर्वरक निगरानी समिति की बैठक हुई। विद्या भवन सभागार में आयोजित बैठक में डीडीसी ने कहा कि किसानों को निर्धारित सरकारी मूल्य पर हर हाल में उर्वरक उपलब्ध करायी जाये। इसके लिए जरूरी उपाय करने का आदेश जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार को दिया। कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए नियमित रूप से छापेमारी अभियान चलाने का के लिए कहा किया गया। इस दौरान डीएओ ने खरीफ 2021 में विभिन्न फसलों के अच्छादन के संबंध में विस्तार से चर्चा की। बताया कहा कि जिले में धान का आच्छादन एक लाख 15 हजार हेक्टेयर में, मक्का सात हजार हेक्टेयर में, अरहर तीन हजार चार सौ हेक्टेयर व मडुआ 50 हेक्टेयर में किया जाएगा। वर्तमान में भंडार में उपलब्ध उर्वरक के बारे में जिला कृषि पदाधिकारी ने सभी सदस्यों को अवगत कराया। डीएओ ने जानकारी दी कि उर्वरक की गुणवत्ता की जांच करने व कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए डीएम के आदेशानुसार छापेमारी दल का गठन किया गया है। समय-समय पर उर्वरक दुकानों पर छापेमारी किया जाता है और रिपोर्ट उपलब्ध कराई जाती है। रबी फसल 2020-21 में 148 दुकानों में छापेमारी की गई। इसमें 88 में अनियमितता पाई गई। आठ विक्रेताओं पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई है और 40 विक्रेताओं की लाइसेंस रद्द की गई है। 223 दुकानदारों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई है। इसमें 171 वैसे खुदरा उर्वरक विक्रेता थे, जिनका पीओएस लंबे समय से इन एक्टिव था। इन विक्रेताओं की लाइसेंस निलंबित कर दिया गया है। जिले के सभी उर्वरक प्रतिष्ठानों का भौतिक सत्यापन के लिए आदेश जारी कर दिया गया है। डीएओ को निर्देश दिया गया कि प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाये। संदेश विधायक के प्रतिनिधि ने प्रखंडों व पंचायतों में कर्मियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए औचक निरीक्षण करने का अनुरोध किया गया। विधायक रामविशुन सिंह लोहिया ने बताया कि जिले में किसानों द्वारा अधिक मात्रा में यूरिया का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे फसल व भूमि दोनों को काफी क्षति पहुंचती है। बैठक में डीएओ मनोज कुमार, जिला सहकारिता पदाधिकारी, सभापति के प्रतिनिधि सीडी शर्मा, संदेश विधायक के प्रतिनिधि मुकेश यादव, कृषि मंत्री के प्रतिनिधि जीतू कुमार समेत क्षेत्र प्रबंधक इफको व बिस्कोमान के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

संबंधित खबरें