DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंतरराष्ट्रीय नुक्कड़ नाट्योत्सव शुरू

अंतरराष्ट्रीय नुक्कड़ नाट्योत्सव शुरू

शहर के स़फदर हाशमी रंग स्थल (वीर कुंवर्र सिंह पार्क के समीप) पर रंगकर्मी स़फदर हाशमी की स्मृति में आयोजित पांच दिवसीय अंतरराष्ट्रीय नुक्कड़ नाट्योत्सव सोमवार को शुरू हुआ।

उद्घाटन कवि समीक्षक जीतेन्द्र कुमार ने डफली बजाकर किया। मौके पर नवांकुर द्वारा नाटक ह्लकलर्स ह्ल की प्रस्तुति राजू कुमार रंजन के निर्देशन में की गई। नाटक से पहले जनगीत वो सारे हमारे कतारों में शामिल..., किताबें करती हैं बातें ...को पूजा कुमारी, कुमारी प्रगति, सिद्धि कुमारी, सुभाष कुमार ने संगीत शिक्षक व इप्टा के पुराने संगीतकार नागेन्द्रनाथ पांडेय के नेतृत्व में प्रस्तुत किया। नाल पर देवेश कुमार दूबे संगत कर रह थे। इसके बाद कविता पाठ आशुतोष कुमार पांडेय व रविशंकर द्वारा किया गया। नवांकुर की प्रस्तुति कलर्स में कलाकारों ने देश के बुद्धिजीवियों पर हो रहे हमले और शिक्षा के व्यवसायीकरण की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित किया। कलाकारों में अमन कुमार, आलोक कुमार, अंकित, अमृत, इमाद, अमन राज, शुभम दूबे और ओमप्रकाश ने अपने प्रदर्शन से खूब तालियां बटोरी।

उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कवि जीतेंद्र कुमार ने कहा कि आरा के संस्कृतकर्मियों ने सफदर हाशमी की परंपरा को जीवित रखा है। सामाजिक बदलाव के लिए आज भी नाटक हो रहे है। वहीं जनमत के संपादक सुधीर सुमन ने कहा कि सफदर हाशमी नई राजनीतिक, सांस्कृतिक व सामाजिक बदलाव के लिए नाटक करते थे। पिछले कुछ सालों में बुद्धिजीवियों, साहित्यकार-संस्कृतिकर्मियों की हत्याका सिलसिला और तेज हुआ है। सफदर अपने नाटकों और उसमें व्यक्त विचारों के लिए आज भी याद किये जा रहे है। धनंजय, श्रीधर, संजय, सत्यदेव, सुमन कुमार्र ंसह, अमित मेहता, अंकित, अतुल, अमित शंकर, रवि पटेल सहित अन्य उपस्थित थे। संचालन शमशाद प्रेम व धन्यवाद ज्ञापन राजू कुमार रंजन ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:International Nook Natya Festival starts