DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृष्णा सिंह हत्याकांड के सूचक ने कहा-मैं चश्मदीद गवाह नहीं

शहर के चर्चित व्यवसायी कृष्णा सिंह हत्याकांड का सूचक अपने पूर्व के बयान से पलट गया। उसने घटना का चश्मदीद गवाह होने से साफ तौर पर इनकार कर दिया है। इसे लेकर सूचक महेश यादव द्वारा मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के कोर्ट में एक प्रोस्टेट कंपलेट केस भी फाइल किया है। उसमें अपने बयान को तोड़-मरोड़ कर गवाह बनाने की बात कही है। कहा है कि हत्या के बाद आरा सदर अस्पताल में कृष्णा सिंह के रिश्तेदारों के कहने पर पहले से तैयार आवेदन पर हस्ताक्षर कर दिया था। सूचक का कहना है कि कृष्णा सिंह का अपने पट्टीदारों से विवाद था। हत्या से कुछ दिनों पहले इसे लेकर पट्टीदारों ने हो-हल्ला भी किया था। उसने कृष्णा सिंह के पट्टीदारों पर उसका नाम लेकर अपना मतलब साधने का आरोप भी लगाया है। कहा कि बिना उसकी जानकारी के हाईकोर्ट तक आवेदन दिये गये हैं। उसका कहना है कि घटना के समय उसने किसी को नहीं देखा था। सूचक का कहना है कि घटना के दिन वह पड़ाव से गुजर रहा था तो शोर-गुल सुना। इस पर देखा कि भीड़-भाड़ लगी है और कृष्णा सिंह खून से लथपथ पड़े हैं। सूचक के इस बयान से मामले में नया मोड़ आ गया है। बता दें कि दो जुलाई 2017 की सुबह भलुहीपुर निवासी व व्यवसायी कृष्णा सिंह को गोलियों से भून दिया गया था। तब इस मामले में महेश यादव के बयान पर दस नामजद व अन्य अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी। इसमें हम नेता दानिश रिजवान, उनके भाइयों, भाजना नेता इंद्रभान सिंह व कुख्यात चांद मियां को आरोपित किया गया था।

...........

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:An Indicator of Krishna Singh murder case said- I am not an eyewitness