DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  आरा  ›  अलर्ट : यास तूफान का भोजपुर में मध्यम असर होने का पूर्वानुमान
आरा

अलर्ट : यास तूफान का भोजपुर में मध्यम असर होने का पूर्वानुमान

हिन्दुस्तान टीम,आराPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 11:10 PM
अलर्ट : यास तूफान का भोजपुर में मध्यम असर होने का पूर्वानुमान

हिन्दुस्तान टीम

आरा। देश में उठे यास चक्रवात का असर भोजपुर में भी रहेगा। मंगलवार की सुबह से ही आसमां में बादल छाये रहे। बीच-बीच में ठंडी हवाएं भी चलती रहीं। हालांकि थोड़ी राहत की बात यह है कि भोजपुर में इसका असर मध्यम रहने का पूर्वानुमान जताया जा रहा है। बावजूद इसके प्रशासन अलर्ट है। आम लोगों को भी सजग कर दिया गया है। 27 मई को भोजपुर में पांच बजे शाम से 28 मई की 11 बजे सुबह तक इसका असर रहेगा। ऐसे अनुमान लगाया जा रहा है कि बुधवार को भी मौसम बदला रहेगा। धूप की जगह आकाश में बादल रहेंगे। हवा भी चलेगी, लेकिन रफ़्तार बुधवार को धीमी रहेगी। गुरुवार को असर पूरा रहेगा।

बता दें कि चक्रवाती तूफान यास के गंभीर बनकर आगे बढ़ने की जानकारी मौसम विज्ञान केन्द्र पटना से मिलते ही प्रशासनिक स्तर पर भोजपुर जिले में आम-अवाम को अलर्ट किया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बंगाल की खाड़ी से 630 किलोमीटर दक्षिण - पूर्व में केन्द्र यास आगे बढ़ रहा है। बिहार के सभी 38 जिले 27 मई से 30 मई तक चक्रवाती तूफान से प्रभावित होंगे। चपेट में आने पर तेज गरज के साथ बिजली, तेज हवा और मध्यम बारिश के साथ - साथ भारी बारिश होने की संभावना जताई जा रही है।

चक्रवाती तूफान आने पर रहना होगा सावधान

चक्रवाती तूफान आने पर आवास में ऊपरी तलों की जगह भूतल पर रहना होगा। साथ ही रेडियो और टेलीविजन पर मौसम साफ होने की खबरों की जानकारी पल-पल लेनी होगी। पुराने और क्षतिग्रस्त भवनों अथवा पेड़ों के नजदीक जाने से बचना होगा। बिजली और टेलीफोन के खंभों के नीचे खड़ा होने से रोक लगा दी गयी है। खंभों के गिरने से शारीरिक क्षति हो सकती है। घर से बाहर होने की हालत में छत वाले मकान में आश्रय लेना श्रेयष्कर होगा।

चक्रवाती तूफान आने पर की गयी मनाही

चक्रवाती तूफान आने पर ऊंची इमारतों वाले क्षेत्र में शरण नहीं लेने की मनाही की गयी है। बिजली और टेलीफोन के खंभे के नीचे रुकने अथवा खड़ा होने पर रोक लगायी गयी है। बड़े-बड़े वृक्ष, बिजली के खंभे और टेलीफेान के खंभे आकाशीय बिजली को अपने ओर आकर्षित करते हैं। पैदल जाने की हालत में धातु के छातों का उपयोग करने पर रोक लगायी गयी है। खुले आकाश के नीचे एक साथ कई आदमी के इकट्ठा होने पर रोक लगा दी गयी है और दो लोगों के बीच की दूरी कम से कम 15 फुट होने की बात बतायी गयी है।

संबंधित खबरें