12 girls accused of harassment left Kasturba School - प्रताड़ना का आरोप लगा 12 छात्राओं ने छोड़ा कस्तूरबा विद्यालय DA Image
12 दिसंबर, 2019|11:46|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रताड़ना का आरोप लगा 12 छात्राओं ने छोड़ा कस्तूरबा विद्यालय

default image

भोजपुर के बड़हरा प्रखंड परिसर में स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में वार्डेन और शिक्षिका द्वारा छात्राओं को प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है। प्रताड़ना से परेशान छात्राओं ने लगभग एक सप्ताह पूर्व 12 छात्राओं ने स्कूल छोड़ दिया है। स्कूल छोड़ने वाली छात्राएं अब तक वापस नहीं लौटी हैं। हालांकि स्कूल प्रशासन छुट्टी लेकर घर जाने की बात कह रहा है। मामला पूरे इलाके में पिछले कई दिनों से चर्चा का विषय बना हुआ है। बताया जाता है कि वार्डेन और शिक्षिकाओं द्वारा छात्राओं के साथ मारपीट और अभद्र व्यवहार किया जा रहा था। इसकी शिकायत छात्राओं ने बड़हरा थाने में की थी। इसके बाद बड़हरा पुलिस ने मामले की जांच- पड़ताल की। समुचित कार्रवाई नहीं होने के बाद छात्राओं ने इस घटना की जानकारी अपने परिजनों को दी। जानकारी मिलते ही परिजन अपनी-अपनी बच्चियों को घर वापस लेकर चले गये। प्रताड़ना से तंग आकर एकवना गांव के राजरानी कुमारी, सुमन कुमारी, चांदनी कुमारी, ज्योति कुमारी, प्रियंका कुमारी, अनु कुमारी, बबीता कुमारी, रोशनी कुमारी, सीता कुमारी, अनिता कुमारी और प्रिया कुमारी छात्राओं ने विद्यालय को छोड़कर घर चली गई हैं। विद्यालय छोड़ने वाली सभी छात्राएं एक ही गांव की हैं। छात्राएं व परिजन वार्डेन व शिक्षिका पर प्रताड़ना का आरोप लगा रहे हैं। स्थानीय लोगों ने मामले की जांच कराने की मांग की है। वहीं वार्डेन पूनम कुमारी ने बताया कि छात्राओं द्वारा लगाये गये सभी आरोप बेबुनियाद और गलत हैं। लगभग 25 छात्राएं एक पर्व में शामिल होने के लिए छुट्टी लेकर घर गई हैं। वहीं थानाध्यक्ष अवधेश कुमार ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।

छात्राएं बोलीं- शौचालय की करायी जाती है सफाई

विद्यालय छोड़ने वाली छात्राएं और उनके परिजनों ने वार्डेन और शिक्षिका पर कई गंभीर आरोप लगाये हैं। एकवना गांव निवासी सावित्री देवी ने कहा कि कस्तूरबा विद्यालय में बच्चियों को भरपेट खाना नहीं मिलता है। बच्ची बीमार होती है तो विद्यालय प्रबंधन द्वारा इलाज भी नहीं कराया जाता है। वार्डेन और शिक्षिका द्वारा बच्चियों को प्रताड़ित किया जाता है। लखनी कुंअर ने कहा कि बच्चियों के साथ मारपीट और अभद्र व्यवहार किया जाता है। छत से बच्चियों को फेंकने की धमकी दी जाती है। बच्चियों के साथ लगातार हो रही मारपीट के बाद मजबूरन घर लाया गया। वार्डेन को सस्पेंड करने की मांग की। बबीता देवी ने बताया कि दूध में छिपकली गिर जाती है तो वही दूध सभी बच्चियों में बांट दिया जाता है। छात्राओं से पढ़ाई के बदले शौचालय साफ करवाया जाता है। छात्रा राजरानी ने बताया कि बीमार होने पर कहा जाता है कि मर जाओ। दवा दी जायेगी। इसकी जानकारी बड़हरा थाने को भी दी गई है। थाने में शिकायत करने पर डांट-फटकार लगाई गई। छात्रा प्रियंका कुमारी, सुमन कुमारी और अनु कुमारी ने भी विद्यालय प्रबंधन पर मारपीट का आरोप लगाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:12 girls accused of harassment left Kasturba School