फोटो गैलरी

Hindi News ऑटोओला बनी नंबर-1 इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनी, लेकिन सर्विस बनी बड़ी चुनौती; इस कंडीशन ने टेस्ला के लिए बढ़ाई टेंशन

ओला बनी नंबर-1 इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनी, लेकिन सर्विस बनी बड़ी चुनौती; इस कंडीशन ने टेस्ला के लिए बढ़ाई टेंशन

ओला इलेक्ट्रिक के देशभर में 400 से ज्यादा सर्विस सेंटर हैं। जहां पर इलेक्ट्रिक स्कूटर को मेंटेन और रिपेयर किया जाता है। रॉयटर्स ने जुलाई और अक्टूबर के बीच 10 राज्यों में 35 सेंटर का दौरा किया।

ओला बनी नंबर-1 इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनी, लेकिन सर्विस बनी बड़ी चुनौती; इस कंडीशन ने टेस्ला के लिए बढ़ाई टेंशन
Narendra Jijhontiyaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 28 Nov 2023 03:24 PM
ऐप पर पढ़ें

देश के अंदर एलन मस्क की टेस्ला एंट्री की तैयार कर रही है। उसकी तैयारी भी अंतिम दौर में पहुंच गई है। इधर देश की नंबर-1 इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनी ओला इलेक्ट्रिक को CEO भावेश अग्रवाल पहली मस्क को छेड़ चुके हैं। अग्रवाल ने मस्क से कहा है कि वो अपने लाखों इलेक्ट्रिक स्कूटर की दम पर देश का फ्यूचर क्लीन कर रहे हैं। हालांकि, उनके कुछ मैकेनिक टिक नहीं पाते।

अग्रवाल अपने ओला इलेक्ट्रिक की तुलना पश्चिम से आने वाली टेस्ला से करते हैं। ओला करीब 2 सालों में 0 से 338,000 इलेक्ट्रिक स्कूटर की बिक्री का सफर कर चुकी है। अब कंपनी स्टॉक-मार्केट लिस्टिंग की तरफ बढ़ रही है। इतना ही नहीं, उसने भारतीय बाजार में राज करने वाले इंटरनल कंबक्शन इंजन (ICE) व्हीकल को खत्म करने की भी कसम खाई है।

ओला ने इसी साल 15 अगस्त, 2023 को स्वतंत्रता दिवस पर मौके पर लगभग 1,000 डॉलर से शुरू होने वाला नया इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च किया था। तब कंपनी के CEO भाविश अग्रेवाल ने रॉयटर्स को बताया थी कि हम ICE युग को खत्म कर देंगे। उन्होंने बताया कि कंपनी की वेल्यू पहले से ही 5.4 बिलियन डॉलर हो चुकी है। नए साल की शुरुआत तक अपनी ईयरली प्रोडक्शन चार गुना बढ़ाकर 2 मिलियन ई-स्कूटर कर देगी।

ई-स्कूटर की सर्विस ओला के लिए बनी चैलेंज
ओला इलेक्ट्रिक के देशभर में 400 से ज्यादा सर्विस सेंटर हैं। जहां पर इलेक्ट्रिक स्कूटर को मेंटेन और रिपेयर किया जाता है। रॉयटर्स ने जुलाई और अक्टूबर के बीच 10 राज्यों में 35 सेंटर का दौरा किया। यहां 36 ओला सर्विस स्टाफ और 40 ग्राहकों से बात की। तब ये बात सामने निकलकर आई कि सेल्स बूस्ट होने के बाद सर्विस कंपनी के लिए बड़ा तनाव है। मुंबई, चेन्नई और बेंगलुरु जैसे बड़े शहरों में स्थित ओला सेंटर के पास इलेक्ट्रिक स्कूटर की सर्विस का बड़ा बैकलॉग है। जहां, नए ई-स्कूटर से ज्यादा उनके स्पेयर पार्ट्स की डिमांड है। जिसके चलते ग्राहकों को 3 दिन से लेकर 2 सप्ताह तक का इंतजार करना पड़ रहा है।

हेलमेट पहनकर चल रहे तो भी कटेगा 2000 रुपए का चालान, मोटरसाइकिल और स्कूटर राइडर रहें सावधान

सर्विस वाले ई-स्कूटर की संख्या 1000 हुई
मुंबई रीजन के 14 सेंटर में से सबसे बड़े ठाणे में एक ओला वर्कशॉप में 100 से अधिक ई-स्कूटर रिपेयर के लिए बाहर खड़े दिखाई दिए। इनमें कई कीचड़ भरी जगह पर खड़े थे। कई पर धूल जमा हो रही थी। कई पक्षियों की बीट से भरे पड़े थे। ठाणे सर्विस मैनेजर, देवेन्द्र घुगे ने अक्टूबर के आखिर में रॉयटर्स को बताया कि पिछले 4 महीनों में सेंट्र द्वारा निपटाए जाने वाले मामलों की संख्या 200-300 से बढ़कर लगभग 1,000 प्रति माह हो गई है। जिसमें प्रतीक्षा समय दो सप्ताह तक बढ़ गया है। जनवरी में भाविश अग्रवाल ने वादा किया था कि ग्राहक अपने वाहनों को एक हब में ला सकेंगे और ज्यादातर मामलों में उसी दिन सर्विस प्राप्त कर सकेंगे।

भारतीय कंडीशन चुनौतियां, सर्विस बेहतर करनी होगी

ऑटो कंसल्टिंग फर्म JATO डायनेमिक्स के रवि भाटिया ने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े टू-व्हीलर बाजार भारत में एक अच्छा सर्विस नेटवर्क महत्वपूर्ण है। भारतीय ग्राहक इस टेक-पैक्ड EVs के लिए एकदम नए हैं, जो कई पारंपरिक स्कूटर्स और मोटरबाइक्स की तुलना में धक्कों और झटकों के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

भारतीय कंडीशन ड्राइविंग के हिसाब से कई चुनौतियों से भरी पड़ी हैं। यहां सड़कों पर लाखों टू-व्हीलर दौड़ रहे हैं जो अक्सर भीड़-भाड़ वाली जगहों को साथ गड्डों से भरी होती हैं। भाटिया ने कहा कि ओला को फास्ट सर्विस के लिए बुनियादी ढांचे का तैयार करने की जरूरत है, अन्यथा उनके द्वारा कही गई बातें उन्हें हमेशा परेशान करती रहेंगी।

कार में क्यों होती है सनरूफ? 90% लोग इस बारे में नहीं जानते; इसमें से बाहर निकलना सबसे बड़ी गलती

2030 तक 70% इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर का लक्ष्य
भाविश अग्रवाल और एलन मस्क के बीच चर्चा तब तेज हो गई थी जब अग्रवाल ने कहा था कि टेस्ला इज फॉर द वेस्ट, ओला फॉर द रेस्ट। वह जल्दी में रहने वाले व्यक्ति हैं। भाटिया का कहना है कि भारत में बिकने वाले सभी नए स्कूटर और मोटरबाइक 2025 के आखिर तक इलेक्ट्रिक हो सकते हैं, जो सरकार के 2030 तक 70% नए टू-व्हीलर्स की बिक्री के लक्ष्य से काफी आगे है।

700 मिलियन डॉलर के IPO की तैयारी
ओला के पहले इलेक्ट्रिक स्कूटर के लॉन्च होने के दो साल बाद स्टार्टअप ने वॉल्यूम के हिसाब से लगभग एक तिहाई बिक्री के साथ खुद को भारत के इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर मार्केट में लीडिंग प्लेयर के तौर पर खुद को स्थापित किया है। इतना ही नहीं, उसने जापान के सॉफ्टबैंक (9984.T) और सिंगापुर के टेमासेक सहित प्रमुख निवेशकों को आकर्षित किया है। अब कंपनी 700 मिलियन डॉलर के भारतीय IPO के लिए तैयारी कर रही है।

इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर की सेल्स 3 गुना बढ़ी
इंडस्ट्री के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले साल की तुलना में मार्च तक ई-स्कूटर की बिक्री लगभग तीन गुना बढ़कर 700,000 से अधिक हो गई। इसके लिए ओला और हीरो इलेक्ट्रिक और TVS मोटर (TVSM.NS) जैसे प्रतिद्वंद्वियों को भी धन्यवाद दिया गया। इसके बाद भी ये बिक्री अभी भी भारत में बेचे गए 5.2 मिलियन नए स्कूटर्स और 10.2 मिलियन मोटरबाइक्स का एक छोटा सा अंश है। जहां ईवी अपनाने में अमेरिका और चीन जैसे देश काफी पीछे हैं। चार्जिंग बुनियादी इंफ्रास्ट्रक्चर अपनी प्रारंभिक अवस्था में है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें