Hindi Newsऑटो न्यूज़Odisha cabinet okays Rs 40000 crore investment for EV factories of JSW group check all details here

मंजूरी! उड़ीसा में ₹40,000 करोड़ के निवेश से तैयार होंगी इलेक्ट्रिक बाइक्स और कारें, हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार

ओडिशा कैबिनेट ने JSW ग्रुप की EV फैक्टरियों के लिए 40,000 करोड़ रुपये के निवेश को मंजूरी दी है। यह मंजूरी मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल बैठक में दी गई। आइए डिटेल्स जानते हैं।

Sarveshwar Pathak लाइव हिंदुस्तान, नई दिल्लीTue, 23 Jan 2024 12:10 AM
हमें फॉलो करें

ओड़िशा सरकार ने 22 जनवरी को 14 प्रस्तावों को मंजूरी दी है। इसमें मुख्य रूप से जेएसडब्ल्यू ग्रुप (JSW group) की 40,000 करोड़ रुपये के निवेश से कटक और जगतसिंहपुर जिलों में इलेक्ट्रिक वाहनों और ऑटो-पार्ट के मैन्युफैक्चरिंग के लिए प्लांट स्थापित करने का प्रस्ताव भी शामिल है। इन प्रस्तावों को यह मंजूरी मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल बैठक में दी गई। इससे लगभग 11,000 से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। 

यह भी पढ़ें-इस माइलेज कार से फैमिली लेकर पहुंचिए दिल्ली से अयोध्या, 670km की दूरी लेकिन खर्च वंदे भारत की 1 टिकट से भी कम

दुनिया का सबसे बड़ा सिंगल लोकेशन प्रोजेक्ट

राज्य मंत्री अशोक पांडा ने कहा कि जेएसडब्ल्यू समूह के पास कटक शहर के नाराज क्षेत्र में 50 गीगा वाट घंटे की क्षमता वाला एक एडवांस टेक्नोलॉजी-बेस्ड बैटरी मैन्युफैक्चरिंग प्लांट होगा, जो इस क्षेत्र में दुनिया का सबसे बड़ा सिंगल लोकेशन प्रोजेक्ट होगा। कंपनी 25000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ दो चरणों में उसी प्लांट में इलेक्ट्रिक वाहनों और कंपोनेंट के लिए एक OEM प्लांट स्थापित करने की भी योजना बना रही है।

7,000 से अधिक लोगों के लिए रोजगार

इसके अलावा जेएसडब्ल्यू राज्य में 15,000 करोड़ रुपये के प्रस्तावित निवेश के साथ तीसरे चरण में पारादीप बंदरगाह के पास लिथियम स्मेल्टर के साथ कॉपर स्मेल्टर समेत ईवी कंपोनेंट मैन्युफैक्चरिंग कॉम्पलैक्स स्थापित करेगा, जिससे 7,000 से अधिक लोगों के लिए रोजगार पैदा होगा।

ईवी सेगमेंट में प्रवेश करने की योजना

जनवरी 2023 में यह बताया गया कि JSW समूह भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में प्रवेश करना चाहता है। जिंदल ने पहली बार 2017 में अपनी लिस्टिंग यूनिट जेएसडब्ल्यू एनर्जी के माध्यम से ईवी सेगमेंट में प्रवेश करने की योजना बनाई थी, लेकिन कुछ शेयरधारकों द्वारा इस पर आपत्ति जताए जाने के बाद योजना को दो साल के भीतर ही स्थगित कर दिया गया था।

ऐप पर पढ़ें