DA Image
हिंदी न्यूज़ › ऑटो › अब और सस्ते मिलेंगे इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर, सरकार ने बढ़ाई सब्सिडी
ऑटो

अब और सस्ते मिलेंगे इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर, सरकार ने बढ़ाई सब्सिडी

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Vishal Kumar
Sat, 12 Jun 2021 02:11 PM
अब और सस्ते मिलेंगे इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर, सरकार ने बढ़ाई सब्सिडी

देश में अब इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर खरीदना और भी सस्ता पड़ेगा। भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री और मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों पर सब्सिडी बढ़ाने का फैसला किया है। भारी उद्योग विभाग ने शुक्रवार को एक नोटिफिकेशन जारी किया है, जिसके मुताबिक इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के लिए इंसेंटिव को बढ़ाकर ₹15,000 प्रति kWh कर दिया गया है, जो पहले की सब्सिडी दर से ₹5,000 प्रति kWh ज्यादा है।

सरकार के इस फैसले का सीधा लाभ नया इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर खरीदने वाले ग्राहकों को होगा। भारत की तेजी से उभरती इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर मैन्युफैक्चर एथर एनर्जी (Ather Energy) पहली कंपनी है जिसने ग्राहकों को बढ़ी हुई सब्सिडी का फायदा देना भी शुरू कर दिया है। कंपनी ने अपने 450X इलेक्ट्रिक स्कूटर की कीमत कम कर दी है। Ather Energy ने कहा है कि सरकार के इस निर्णय के चलते Ather 450X स्कूटर पहले से 14,500 रुपये सस्ता मिलेगा। 

यह भी पढ़ें:  ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अब RTO पर नहीं देना होगा टेस्ट, आ रहा नया नियम

95% इलेक्ट्रिक स्कूटर्स बेनिफिट्स से बाहर
बता दें कि FAME 2 स्कीम के तहत मिलने वाली सब्सिडी का लाभ चुनिंदा इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स को ही मिल पाएगा। इस बेनिफिट के लिए इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर की न्यूनतम ड्राइव रेंज 80 किलोमीटर और स्पीड अधिकतम 40 किलोमीटर प्रति घंटे होनी चाहिए। इसके अलावा, फुल चार्जिंग के लिए लगने वाली एनर्जी अधिकतम 8 यूनिट होनी चाहिए। इतना ही नहीं, व्हीकल में 75 फीसदी कलपुर्जे देशी होने चाहिए। 

यह भी पढ़ें:  Alto से Brezza तक, मारुति की इन गाड़ियों पर ₹51 हजार तक छूट

एथर एनर्जी के सीईओ और सह-संस्थापक तरुण मेहता ने कहा, 'FAME पॉलिसी में संशोधन से सब्सिडी में 50% प्रति KWh की बढ़ोतरी एक शानदार फैसला है। महामारी के बावजूद इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की बिक्री में बढ़ोतरी हुई है। हम उम्मीद करते हैं कि इलेक्ट्रिक टू व्हीलर की बिक्री 2015 तक 60 लाख यूनिट्स पार कर जाएगी।' उन्होंने कहा कि सरकार इसी तरह स्थानीय रूप से निर्मित इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों को सपोर्ट करती रही तो भारत EVs का मैन्युफैक्चरिंग हब बन जाएगा। 

संबंधित खबरें